जबलपुर । केंट थाना क्षेत्र की पेंटीनाका स्थित एक होटल में सुबह आग लग गई। देखते ही देखते आग ने विकराल रूप ले लिया। इस दौरान आग में जलने से एक कर्मचारी की भी मौत हो गई। घटना के संबंध में एक पहलू यह भी सामने आया है कि कर्मचारी ने खुद को आग लगाई थी, जिसके चलते होटल में आग भड़क गई। हालाकि पुलिस ने शव को पीएम के लिए भिजवाते हुए हादसे की जांच शुरू कर दी है। 
कैंट पुलिस ने बताया कि सदर के पेंटीनाका क्षेत्र में होटल शुभकामना है। होटल में प्रबंधन का काम देखने वाला कर्मचारी सूरज जेठवानी उम्र 47 वर्ष होटल के ऊपरी हिस्से में बने कमरे में सो रहा था। इसी दौरान रविवार सुबह 4.30 बजे के लगभग अचानक ऊपरी हिस्से में आग लग गई, जिसने कुछ ही देर में विकराल रुप धारण कर लिया। आग की लपटें सूरज के कमरे तक पहुंच गई और वह कमरे के अंदर ही जिंदा जल गया।
दहशत में आए लोग
होटल के उपरी हिस्से में आग की लपटें देख स्थानीय लोग दहशत में आ गए। लोगों ने पहले खुद आग बुझाने का प्रयास किया। इसके बाद दमकल अमले को सूचना दी गई। मौके पर पहुंची दमकल अमले की टीम ने करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। इस दौरान जब अंदर के कमरे में सो रहे सूरज की तलाश की गई तो उसका शव कमरे के अंदर जली हुई अवस्था में मिला। शव बुरी तरह जल गया था, जिससे उसकी पहचान करना मुश्किल था। होटल के कर्मचारियों से मिली जानकारी के अनुसार मृतक की शिनाख्त सूरज जेठवानी के रूप में की गई है।
रायपुर का रहने वाला है सूरज
पुलिस पूछताछ में होटल संचालक प्रमोद गुप्ता ने बताया है कि सूरज मूलत: रायपुर जिले का रहने वाला था। जो सालों से उसके यहां होटल में प्रबंधन का काम देख रहा था। पुलिस को यह भी पता चला है कि सूरज जेठवानी पिछले चार-पांच माह से मानसिक रुप से परेशान था, जिसका इलाज भी चल रहा है। घटना को लेकर यह भी कहा जा रहा है कि मानसिक रूप से कमजोर सूरज ने खुद को आग लगाई थी, जिसके बाद होटल में भी आग फैल गई और विकराल रूप धारण कर लिया। अग्नि दुर्घटना में करीब एक लाख रुपए के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है। फिलहाल पुलिस ने शव को पीएम के लिए भिजवाते हुए जांच शुरू कर दी है।