नई दिल्‍ली : जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने गुरुवार को साफ़ लफ़्ज़ों में कहा कि दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग जिले में सीआरपीएफ और पुलिस पार्टी पर जो फिदायीन हमला हुआ, वो पाकिस्तान के इशारे पर किया गया है.

राज्यपाल मलिक ने श्रीनगर के शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस सेंटर (SKICC) में एक निजी विश्वविद्यालय के समारोह के मौके पर कहा, "कल का आतंकवादी हमला पाकिस्तान द्वारा दिए गए निर्देश पर हुआ. यह एक फिदायीन हमला था. जब भी घाटी में शांति होती है पाकिस्तान फिदायीन हमलों का सहारा लेकर हालात बिगाड़ने करने की कोशिश करता है."

उन्‍होंने कहा कि “हमने शांतिपूर्ण तरीके से राज्य में चुनाव करवाए थे. यह पाकिस्तान में बैठे आतंकी आकाओं को रास नहीं आया. जब भी सुरक्षाबलों की स्थिति पाकिस्‍तान को मज़बूत दिखती है तो सीमा पार से आदेश आता है फ़िदायीन हमले का. यह फ़िदायीन हमला था. कोई मामूली हमला नहीं था. सत्‍यपाल मलिक ने कहा कि जब भी घाटी में शांति होती है तो पाकिस्तान इसे बिगड़ने की कोशिश करता है. उन्‍होंने आगे कहा कि हम उन्हें (पाकिस्तान को) कहना चाहते हैं कि इस सब से हमारे इरादों पर कोई फ़र्क नहीं पड़ेगा. हम आतंकियों को ख़त्म करके दम लेंगे.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की मंजूरी और हुकुम से ही आतंकवादी घाटी में फिदायीन हमलों को अंजाम देते हैं. यह कोई यहां की तनजीम नहीं करवाती.

यह पूछे जाने पर कि अमरनाथ गुफा जाने वाली सड़क पर हमला किया गया था, इस पर राज्यपाल ने कहा कि “यह यात्रा पर हमला नहीं था, क्योंकि यात्रा शुरू होना बाकी है. हमारे पास इसके लिए एक फूल प्रूफ़ सुरक्षा योजना है और उन्हें (आतंकवादियों) को यत्रियों के करीब फटकने भी नहीं दिया जाएगा.

गौरतलब है कि बुधवार शाम को अनंतनाग जिले में आतंकवादियों ने एक फिदायीन हमला किया था, जिसमें पांच केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवान शहीद और 4 अन्‍य घायल हुए थे. इसके अलावा एक पुलिस अधिकारी सहित कई अन्य घायल हो गए थे