गुजरात में चक्रवाती तूफान वायु से बचाव की तैयारियां शुरू हो गई है. गिर में 13 शेरों को ट्रैक करके उन्हें सलामत स्थल पर ले जाया गया. वेरावल, आद्री और दारी विस्तार इलाके में इन शेरों को ट्रैक किया गया. बताया जा रहा है कि इन शेरों का लोकेशन समुद्र तट के पास मिला था. इसके बाद उच्च अधिकारियों ने शेरों को चोरवाड़ और बाबरिया विरडी इलाके में शिफ्ट करा दिया है.

गौरतलब है कि गुजरात के सौराष्ट्र तट से 600 किलोमीटर दक्षिण में केंद्रित चक्रवात 'वायु' के राज्य में गुरुवार को दस्तक देने की संभावना है. इसको लेकर राज्य और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की टीमों ने सभी तटवर्ती जिलों में इससे निपटने के लिए खाका तैयार कर लिया है. गुजरात के मुख्य सचिव जे.एन. सिंह ने गांधीनगर में कहा कि भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) की जानकारी से पता चलता है कि चक्रवात गुरुवार सुबह 6 से 7 बजे के बीच वेरावल के पास दस्तक देने की संभावना है.

जेएन सिंह ने कहा, "यह वेरावल और महुवा (सौराष्ट्र क्षेत्र में) के बीच कहीं भी होगा लेकिन इसकी सबसे ज्यादा संभावना गिर-सोमनाथ जिले के वेरावल के पास है." अधिकारियों ने कहा कि चक्रवात वायु मंगलवार की सुबह वेरावल के दक्षिण में 690 किमी दूरी पर था. इसके दस्तक देने के दौरान रफ्तार 110 किलोमीटर से 135 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है. मौसम विभाग के अधिकारियों के मुताबिक सौराष्ट्र क्षेत्र के कई तटवर्ती जिलों में भारी बारिश हो सकती है. यह पूर्व मानसून बारिश है.

मुख्य सचिव जे.एन. सिंह ने कहा कि अभी जल्दी में तटीय जिलों से तत्काल निकासी की जरूरत नहीं थी लेकिन अगर चक्रवात किसी तरह दिशा बदलती है या अगले 24 घंटों में तेज हो जाता है तो उसी के अनुसार फैसला लिया जाएगा.