भोपाल । प्रदेश में भीषण गर्मी के बीच प्री-मानसून गतिविधियों का दौर जारी है। रीवा जिले में भीषण गर्मी के कारण लू चलने और पेड़ गिरने से दो महिलाओं की मौत हो गई। रविवार को पचमढ़ी में दोपहर में अचानक बादल छाए और करीब तीन बजे के बाद आधा घंटे तक जोरदार बारिश हुई, जिससे पानी सड़कों पर बह निकला। इधर बैतूल सहित जिले के कई क्षेत्रों में पिछले दो दिन से बादल छा रहे थे। लेकिन रविवार दोपहर को तेज हवा चलने के साथ हल्की बारिश हुई। जिले के भैंसदेही, चिचोली क्षेत्र में भी कल शनिवार को अच्छी बारिश हुई थी। उधर खरगोन में दूसरे दिन रविवार को भी अधिकतम तापमान 47 डिग्री सेल्सियस रहा। इधर, मंदसौर के कई क्षेत्र में तेज बारिश हुई। सड़कों पर पानी भर गया। मंडी में खुले में रखी किसानों की उपज भीग गई। इससे पहले एक व दो जून को जिले में हल्की बारिश हुई थी। देवास जिले के कुछ क्षेत्रों में शाम को आंधी के साथ बारिश हुई। इस दौरान पुंजापुरा क्षेत्र के बोरपड़ाव में पेड़ गिरने से केशरबाई पति शंकरलाल जायसवाल (65) की मौत हो गई। वह आंधी से बचने के लिए पेड़ के नीचे खड़ी थी। इधर, आंधी से कई बिजली के पोल गिर गए और मकानों की टीन उड़ गईं। कांटाफोड़ में आंधी के साथ 15 मिनट बारिश हुई। 
    महाकोशल के कई जिलों में शुक्रवार को बारिश के बाद भी गर्मी से लोगों को राहत नहीं है। महाकोशल-विंध्य में तापमान अभी भी 43 के ऊपर बना हुआ है। विंध्य के रीवा में रविवार को 46. 6 और बुंदेलखंड के दमोह में 46.2 डिग्री सेल्यिस तापमान दर्ज किया गया। रीवा में रविवार को भिक्षा मांगने वाली एक 70 वर्षीय महिला की लू लगने से मौत हो गई। वहीं लू लगने से कई लोग जिला अस्पताल में भर्ती हुए हैं। शाम लगभग 4 बजे लू के थपेड़ों के बीच चली गर्म हवा के दौरान मौसम में बदलाव आया और आसमान पर बादल छा गए हैं। उधर दो दिन तक आंशिक राहत दिलाने के बाद रविवार को ग्वालियर-चंबल समेत छतरपुर जिले में सूरज ने रौद्र रूप धरा। झुलसाने वाली गर्मी के बीच नौगांव में पारा 48 डिसे को छूने बेताब दिखा। यहां अधिकतम 47.9 तापमान दर्ज किया है। खजुराहो के अलावा चंबल अंचल के श्योपुर, ग्वालियर, मुरैना में पारा 47 पार ही रहा। भट्टी की तरह से तपे जिलों में लोग घर के बाहर कम ही नजर आए। अघोषित कर्फ्यू के बीच चले लू के थपेड़ों ने लोगों को हलाकान कर दिया। पशु-पक्षी भी बेहाल नजर आए। चमचमाती धूप और रेगिस्तानी हवाओं ने रात को भी लोगों का चैन छीने रखा। न्यूनतम तापमान 25 से 32 डिसे के बीच ही रहा। लगातार बढ़ते तापमान के बीच मौसम विभाग ने अगले एक सप्ताह तक गर्मी कम होने का उम्मीद नहीं जताई है। फिलहाल हवा का रुख साउथ वेस्ट होने से गर्मी कम होने के आसार नहीं हैं। राजस्थानी हवा से नमी बहुत कम है।