नई दिल्ली । बढ़ता तापमान और सूखा पड़ने की आशंका के बीच प्याज की कीमतों में बढ़ोतरी हो सकती है। महाराष्ट्र और दक्षिण भारत में अत्यधिक गर्मी पड़ रही है और पिछले साल की ही तरह यहां सूखे जैसे हालात हो गए हैं। इन क्षेत्रों से देश के कुल प्याज उत्पादन का 60 फीसदी आता है। इन क्षेत्रों में गर्मी के प्रकोप के चलते प्याज की पैदावार प्रभावित होने की आशंका है, जिससे प्याज के दाम बढ़ सकते हैं। जानकारी के मुता‎बिक महाराष्ट्र में लसालगांव मंडी में प्याज 12 रुपए प्रति किलो बिक रहा है। एक सरकारी अधिकारी के मुताबिक रबी की फसल में प्याज की बुवाई 15-20 फीसदी तक घटी है और अभी ही प्याज का दाम 12 रुपए किलो हो गया है। इसके चलते डर बना हुआ है कि अगस्त आने तक प्याज का दाम कहीं अधिक हो जाएगा। पिछले साल अधिक प्याज के चलते प्याज एक रुपए प्रति किलो में बिक रहा था। तब भी किसानों को नुकसान झेलना पड़ा और इस साल कम उत्पादन की आशंका से भी नुकसान हो सकता है। दक्षिण भारत 20 फीसदी से अधिक प्याज का उत्पादन करता है। गुजरात में भी 10 फीसदी कम उत्पादन होने की आशंका है। अत्यधिक तापमान के चलते न सिर्फ प्याज का उत्पादन घटता है, बल्कि प्याज को स्टोर करना भी चुनौती भरा हो जाता है।