जबलपुर। हमें प्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिराने की आवश्यकता नहीं है, कांग्रेस में इतनी अंदरूनी कलह और अंर्तविरोध है कि यह सरकार अपने आप ही गिर जाएगी। यह कहना है प्रदेश भाजपा अध्यक्ष एवं सांसद राकेश सिंह का। वेंâद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति राज्यमंत्री प्रहलाद सिंह पटेल के साथ शहर में रविवार को एक संयुक्त प्रेस कॉन्प्रेंâस के दौरान बोल रहे थे। नेता द्वय ने  मप्र में २९ में से २८ सीटों के लिए जनता का आभार जताया।श्री सिंह ने कहा कि देश की जनता ने मोदी जी को दोनों हाथों से आशीर्वाद दिया है। जिस तरह के परिणाम सामने आए एक नया इतिहास रचा गया है।
शपथ लेते ही एक्शन मोड में सरकार .........
श्री सिंह ने कहा कि शपथ ग्रहण करते ही मोदी सरकार के मंत्री एक्शन मोड में आ गए हैंं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के चार सांसदों को मंत्रालय में स्थान के साथ ही महाकौशल से दो सांसदों को मंत्रीमंडल में चयन सौगात से कम नहीं है।
हर मोर्चे पर असफल प्रदेश की कांग्रेस सरकार .......
श्री सिंह ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार हर मोर्चे पर विपल रही है। जबकि पीएम ने जीतने के बाद ही अन्नदाता किसानों की ५ एकड की बाध्यता को समाप्त कर हर किसान को ६ हजार रुपए के साथ पहली बार किसानों को पेंशन देने की योजना के साथ छोटा मोटा व्यापार करने वाले सालाना डेढ करोड के टर्नओवर वाले व्यापारियों के हित में सहानुभूतिपूर्वक निर्णय सौगात से कम नहीं।भाजपा ने जो नहीं कहा था वो भी कर दिखाया। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र है लेकिन विधानसभा में जनता ने प्रदेश में जिस सरकार को चुन लिया उससे भयंकर आक्रोश है लेकिन इसी सरकार को झेलने वे विवश हैं।
डुमना नेचर रिजर्व, टाईगर सफारी का प्रस्ताव .........
श्री सिंह ने कहा कि पर्यटन और अन्य क्षेत्रों में शहर को पुरस्कार मिले, स्थितियां भी पहले से बेहतर हैं। उन्होंने पर्यटन और संस्कृति मंत्री से प्रदेश की बात के साथ जबलपुर की ओर ध्यानाकर्षित कराते हुए कहा कि शहर में डुमना नेचर रिजर्व एवं टाइगर सफारी बनाने कोशिश जारी है। पर्यटन में शहर में ७ फीसदी बढोत्तरी तो हुई है लेकिन संभावनाएं असीम हैं।
पर्यटन की संभावनाओं को साकार करेंगे : प्रहलाद .........
पर्यटन एवं संस्कृति राज्यमंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने जनता का आभार जताते हुए कहा कि सांसद भले ही वे दमोह से हैं लेकिन जबलपुर और संपूर्ण महाकौशल के ग्रामीण क्षेत्र में काफी सक्रिय रहे हैं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के कामकाज में विशेषता यह है कि किसी भी कार्य की समय सीमा निर्धारित करना और इससे पहले ही इसे पूरा करना।वे भी सभी लक्ष्य समय से पूर्व पूरे करने कोशिश करेंगे। प्रदेशाध्यक्ष द्वारा पर्यटन के क्षेत्र में जो योजनाएं रखी थी उनकों पूर्ण करने संकल्प व्यक्त करता हूं। उन्होंने कहा कि डुमना नेचर पार्वâ को पर्यटन सर्विâट में चिन्हित कर सकते हैं। शहर के साथ समूचे प्रदेश में पर्यटन की काफी संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि नर्मदा ही ऐसी नदीं हैं जिनकी परिक्रमा होती है यदि भेडाघाट पर ध्यान दिया जाता तो इतने पर्यटक आते कि संभालना मुश्किल हो जाता। यहां बायोडायवर्सिटी के साथ ही हैरिटेज भी है। इस अवसर पर नरसिंहपुर विधायक जालम सिंह पटेल भी मौजूद थे।  
प्रदेश में चार प्रोजेक्टों के लिए ३५९ करोड़ की राशि स्वीकृत ..........
श्री पटेल ने जानकारी दी कि पर्यटन मंत्रालय ने स्वदेश दर्शन योजना के तहत प्रदेश में चार प्रोजेक्ट के लिए ३५९.७५ करोड रुपए की राशि स्वीकृत की है जिसमें से २५८.९१ करोड रीलिज किए जा चुके हैं। इन प्रोजेक्ट में वाइल्ड लाईफ सर्विâट के लिए पन्ना, मुवुंâदपुर, संजय, डुबरी, बांधवगढ, कान्हा, मुक्की, पेंच और जबलपुर के लिए ९२.२२ करोड रुपए की राशि वर्ष २०१५-१६ में स्वीकृत की गई। दूसरे प्रोजेक्ट में बुद्धिस्ट सर्विâट के लिए सांची, सतना, रीवा, मंदसौर और धार के लिए वर्ष २०१६-१७ में ७४.९४ करोड रुपए की राशि स्वीकृत की गई। हैरिटेज सर्विâट के लिए ग्वालियर, ओरछा, खजुराहो, चंदेरी, भीमबेटका और मधु में वर्ष २०१६-१७ में ९२.९७ करोड रुपए की राशि स्वीकृत की गई। इसी तरह इको सर्विâट के लिए गांधीसागर, मंडलेश्वर, ओमकारेश्वर, इंदिरा सागर, तवा और बरगी आदि डैम, भेड़ाघाट, बांंणसागर और वैâन रिवर के लिए ९९.२२ करोड रुपए की राशि स्वीकृत की गई है। उन्होंने बताया कि सभी प्रोजेक्ट में ९० फीसदी कार्य पूर्ण हो चुका है।