नई दिल्ली: हरियाणा सरकार के स्वास्थ्य और खेल मंत्री अनिल विज अपने बयानों की वजह से सुर्खियों में रहते हैं. विज ने इस बार कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू पर निशाना साधा है. विज ने कहा है कि सिद्धू ने बीजेपी और कांग्रेस दोनों पार्टियों को अपमानित किया है. ऐसे में उनके पास पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ में जाने का ही विकल्प बचता है.  
 
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर नाराजगी जाहिर कर चुके हैं. पंजाब में अंतिम चरण के मतदान के बीच सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर के बीच बयानबाजी हुई जिसका खामियाजा पार्टी को चुनाव में भुगतना पड़ सकता है. अमरिंदर सिंह ने 19 मई कहा था, "सिद्धू बनना मुख्यमंत्री चाहते हैं, गैरजिम्मेदाराना हरकत से कांग्रेस को नुकसान पहुंचाया है." सिंह ने कहा कि उनके पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री से कोई व्यक्तिगत मतभेद नहीं है. हालांकि उन्होंने कहा कि सिद्धू शायद ‘‘महत्वाकांक्षी’’ है और वह ‘‘मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं." 
अपनों के निशाने पर सिद्धू
पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म मोहिन्द्रा ने सिद्धू की आलोचना की थी. उन्होंने कहा कि वह और मंत्रिमंडल के अन्य सहयोगी 'पार्टी को और नुकसान पहुंचाने से सिद्धू को रोकने' के लिए कांग्रेस हाईकमान को लिखेंगे. विपक्षी शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के वरिष्ठ नेता बिक्रम सिंह मजीठिया ने मुख्यमंत्री और सिद्धू के बीच तनाव को लेकर कहा, "दोनों नेताओं के बीच पूरी तरह से विश्वास की कमी है और वे एक-दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं."