दमदम: पश्‍च‍िम बंगाल के दमदम पीएम मोदी ने गुरुवार को दूसरी रैली की. इस रैली में भी उन्‍होंने बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी पर जमकर हमला बोला. उन्‍होंने कहा, दीदी के अहंकार की वजह से राज्‍य में हिंसा हो रही है. पीएम मोदी ने कहा, एक दो दिन से दिल्ली में एक खेल चल रहा है. पहले आप-पहले आप. जो पिछले 6 महीने से मोदी हटाओ की बातें करते थे, जो लोग प्रधानमंत्री के दावे ठोंक रहे थे, लेकिन दो दिन से अचानक उनकी बत्ती गुल हो गई है.

ममता दीदी पश्चिम बंगाल को अपनी पर्सनल प्रॉपर्टी समझने की भूल कर रही हैं. दीदी आज आप चुनाव आयोग को गालियां दे रही हैं, चुनाव प्रक्रिया और सुरक्षा बलों को आप जमकर गालियां दे रही हैं। आप भूल रही हैं कि एक समय इन्हीं संस्थाओं ने आपकी मदद की थी.

आप अपनी प्रॉपर्टी न समझें
दीदी को लगता था कि वो सुप्रीम पावर है, लेकिन बंगाल के जन-गण ने बता दिया है कि सुप्रीम सिर्फ बंगाल की जनता है. बांग्ला मानुष की रग-रग में गणतंत्र है. दीदी इस सच को स्वीकार कर लीजिए और हिंसा का रास्ता छोड़ दीजिए. आप दिन को रात कहने लगेंगी, तो सच्चाई कभी बदल नहीं जाएगी. ममता दीदी देश के लोकतंत्र की मर्यादा, आपके अहंकार से कहीं ज्यादा ऊंची है. हम सभी पर, इस देश के प्रत्येक जनप्रतिनिधि पर, लोकतंत्र की रक्षा करने का भी दायित्व है. आपकी सत्ता जा रही है, आपकी जमीन खिसक चुकी है, पश्चिम बंगाल के लोगों ने आपको नकार दिया है. आप बंगाल को अपनी प्रॉपर्टी समझने की भूल न करें.

दीदी और TMC के नेताओं का अहंकार बढ़ा
पीएम मोदी ने कहा, दीदी और TMC के नेताओं का अहंकार इतना बढ़ गया है कि उन्होंने देश की रक्षा में जुटे सपूतों को भी नहीं छोड़ा है. इनके नेता सरेआम धमकी देते हैं कि सुरक्षा कर्मियों को भगाओ, उनको मारो. यही तरीका जम्मू कश्मीर में पत्थरबाज अपनाते हैं. अरे दीदी, सबको सपने देखने की आज़ादी है. आपको प्रधानमंत्री पद के सपने देखने की पूरी आजादी है. लेकिन हमारी सेना और सुरक्षाबलों को गाली देने से, उनके खिलाफ गुंडों का उपयोग करने से, आपकी अपनी विश्वसनीयता पर सवाल उठ चुके हैं.ये देश सबकुछ स्वीकार कर सकता है, लेकिन अहंकार किसी का भी स्वीकार नहीं करेगा. दीदी आपको यूपी, बिहार और ओडिशा वालों से समस्या है, आप उनके विरोध में खड़ी हो गयी हो. लेकिन जो रात के अंधेरे में सीमा को लांघकर, चोरी-छुपे यहां आते हैं, उनसे समस्या नहीं है.

प्रधानमंत्री ने दमदम में रैली को संबोधि‍त करते हुए कहा-आपके इस व्यवहार से पश्चिम बंगाल के सामान्य मानवी को भी बहुत दुःख हुआ है और इसका जवाब वो 19 मई को कमल का बटन दबाकर देने वाला है. दीदी कान खोल कर सुन लो, ये पश्चिम बंगाल आपकी और आपके भतीजे की जागीर नहीं है. ये मां भारती का एक अटूट अंश है. गंगोत्री से लेकर गंगासागर तक मां गंगा ने जब किसी से भेद नहीं किया, तो दीदी आप कौन होती हो भेद करने वाली.

पीएम मोदी ने कहा, दीदी अगर आप अपनी आंखों से अहंकार और वोट बैंक की पट्टी खोलेंगी तो आपको एक भारत, श्रेष्ठ भारत के दर्शन होंगे. इस भारत के अलग-अलग रंगों को देखने की कोशिश करेंगी तो शायद आपके अहंकार का चश्मा उतर जाएगा. दुष्टों का संहार करने और मर्यादा में रहने की सीख बंगाल के कण-कण में है. लेकिन दीदी ने बंगाल में क्या हालात बना दिए हैं? जो दुष्ट हैं, जो घुसपैठिए हैं, वो मौज में हैं, लेकिन जो काली के भक्त हैं, जो राम के भक्त हैं वो डर-डर कर जीने को मजबूर हैं.

23 मई को जब हमारी सरकार आएगी, घुसपैठ‍ियों का हिसाब होगा
जय मां काली और जय श्रीराम कहने भर से ही बंगाल के युवाओं को जेल में ठूंसा जा रहा है. एक मजाक करने भर से ही बेटियों को जेल में भेजा जा रहा है. ये अब नहीं चलेगा. 23 मई को जब फिर एक बार मोदी सरकार आएगी, तब घुसपैठियों का हिसाब होगा. वो साथी जो मंदिरों, गुरुद्वारों, चर्च में जाते हैं. पूजा पाठ की पद्धति के कारण जिन्हें मजबूरन भारत आना पड़ा है, उनको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है. हम नागरिकता कानून में संशोधन करेंगे और आपको भारत की स्थायी नागरिकता देंगे.

गुरुदेव रबिंद्रनाथ टैगोर ने एक ऐसे राष्ट्र की कल्पना की थी, जहां भय न हो और लोग मस्तक ऊंचा करके रहें. वैसे ही नए हिन्दुस्तान के निर्माण में हम जुटे हैं. इस मिशन में दमदम और पश्चिम बंगाल की बहुत बड़ी भूमिका रहने वाली है.