राजनांदगांव। लोकसभा चुनाव में खलल डालने सक्रिय हुए नक्सलियों को बार्डर पर ही घेरने पुलिस ने रणनीति बना ली है। चुनाव के दौरान नक्सलियों के मूवमेंट को नियंत्रित करने रविवार को बालाघाट और लांजी पुलिस के साथ आला अधिकारियों की इंटर स्टेट बैठक हुई, जिसमें नक्सलियों के मूवमेंट के साथ छोटी-बड़ी घटना को रोकने रणनीति बनी।

लोकसभा चुनाव तक पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश की बालाघाट और लांजी पुलिस जिले के सुरक्षा बल के साथ ज्वाइंट ऑपरेशन चलाएगी। इस बार लोकसभा चुनाव के लिए फोर्स भी कम आ रहे हैं, जिसके कारण स्थानीय सुरक्षा बल के भरोसे पुलिस अधिकारी नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सुरक्षति मतदान कराने की तैयारी में हैं। जिले के संवेदनशील क्षेत्रों में सुरक्षा के लिए बस्तर से भी बम निरोधक दस्ता पहुंचेगा, वहीं बार्डर पर डॉग स्कावॉड की टीम भी नजर रखेगी।

बैठक में बनाई रणनीति 

इंटर स्टेट बालाघाट व लांजी पुलिस के साथ हुई बैठक में लोकसभा चुनाव होने तक आपसी तालमेल से ज्वाइंट आपरेशन चलाने पर चर्चा हुई। पड़ोसी राज्य के दोनों जिले की पुलिस अफसरों की बैठक में यह भी कहा गया कि नक्सलियों के मूवमेंट समेत अहम सूचनाओं को तत्काल शेयर करना होगा, ताकि नक्सलियों को उसी क्षेत्र में घेरा जा सके।
बैठक में पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप, नक्सल आपरेशन एएसपी जीएन बघेल, एएसपी यूबीएस चौहान व बालाघाट और लांजी के पुलिस अधिकारी समेत फोर्स के अफसर भी मौजूद रहे।

डॉग स्कावॉड की टीम रहेगी तैनात
लोकसभा चुनाव के दौरान नक्सलियों के मूवमेंट को नियंत्रित करने सुरक्षा बल के साथ बार्डर में डॉग स्कावॉड की टीम भी तैनात रहेगी। यह टीम बार्डर से होकर आने-जाने वालों पर नजर रखेगी। इसके अलावा जंगल के रास्तों पर भी डॉग स्कावॉड की टीम जांच करेगी। टीम उन जगहों पर पहुंचेगी, जहां नक्सलियों के छिपे होने की खबर मिलती रहती है।

पहुंचने लगे सुरक्षा कंपनी के जवान 
राजनांदगांव की संसदीय सीट पर सुरक्षति मतदान के लिए सुरक्षा कंपनी के जवान पहुंचने लगे हैं। इस बार लोकसभा चुनाव के लिए केवल 13 कंपनियों के पैरामिलिट्री फोर्स आ रही है, जो पिछले विधानसभा चुनाव से आधी भी नहीं है। विधानसभा के दौरान लगभग साढ़े सात हजार जवान तैनात थे, लेकिन इस बार 13 कंपनी के सिर्फ 15 सौ जवान ही तैनात होंगे, जिन्हें नक्सल प्रभावित इलाके में निगरानी के लिए तैनात किया जाएगा।

केंद्र से पहुंचने वाली पैरामिलिट्री फोर्स पहुंचने लगे हैं। रविवार को छह से सात कंपनी के जवान मुख्यालय पहुंचकर अपनी उपस्थिति दर्ज करा दी है। फोर्स जिला मुख्यालय से लगे ग्राम सोमनी के मॉडल कॉलेज व ब्वाय-गर्ल्स हॉस्टल के खाली भवन में ठहरेंगे। सोमनी पुलिस को व्यवस्था की जिम्मेदारी दी गई है।
- लोकसभा चुनाव में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर बैठक हुई है, जिसमें पड़ोसी राज्य की पुलिस के साथ ऑपरेशन चलाने पर चर्चा की गई। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर ही अफसर को निर्देशित किया गया है। - जीएन बघेल, एएसपी नक्सल आपरेशन