दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ बैठक हुई. यह बैठक करीब एक घंटे चली. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक दोनों के बीच की यह मुलाकात पुलवामा हमले के खिलाफ कार्रवाई के लिए एजेंडे के तहत हुई.

बताया जा रहा है कि पुलवामा हमले का बदला कैसे लिया जाए इसके लिए क्या रोडमैप होना चाहिए, इसी के मद्देनजर प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के बीच यह बैठक हुई. बता दें कि इससे पहले गृह मंत्री राजनाथ सिंह एनएसए अजीत डोभाल, खुफिया विभाग के मुखिया और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक कर पुलवामा हमले के खिलाफ कार्रवाई के रोडमैप को लेकर बैठक की थी.

शनिवार को हुई यह बैठक काफी अहम मानी जा रही है. क्योंकि पुलवामा हमले के बाद पूरे देश में आक्रोश है और लगातार जवाबी कार्रवाई की मांग उठ रही है. खुद प्रधानमंत्री भी कई मंचों से हमले के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करने की बात कह चुके हैं. शनिवार दोपहर राजस्थान के टोंक में हुई विजय संकल्प रैली में भी पीएम मोदी ने कहा कि पुलवामा हमले का दर्द चुपचाप नहीं सहेंगे, इसका बराबर हिसाब होगा.

पीएम मोदी ने कहा कि सीमा पर डटे हमारे सैनिकों पर, सरकार पर और मां भवानी के आशीर्वाद पर भरोसा रखिए, इस बार सबका हिसाब होगा. पीएम ने सधे शब्दों में पाकिस्तान को चेताया कि अब चुप रहने के दिन गए, पाकिस्तान के हर गुनाह का हिसाब होगा, कीमत तो चुकानी ही पड़ेगी. आतंक की फैक्ट्री में ताला लगेगा.

मोदी ने हमले के बाद कहा था कि पुलवामा हमले में शहीद होने वाले जवानों के परिवारों के एक-एक आंसू का बदला लिया जाएगा. साथ ही उन्होंने कहा था कि सेना को आतंक के खिलाफ कार्रवाई करने की खुली छूट दे दी गई है. इसके बाद सेना ने हमले के 100 घंटे के भीतर पुलवामा हमले के मुख्य शाजिशकर्ता आतंकी गाजी को मार गिराया था.