बिलासपुर ।  बिलासपुर जिले में माह दिसंबर तक ५९ लाख ५९ हजार से अधिक मूल्य के ३२ लाख ३८ हजार ८०८ नग कोसा फल का उत्पादन हुआ है। कोसा फल उत्पादन कर इस व्यवसाय से जुड़े प्रत्येक हितग्राही ने २० हजार २७० रूपये की अतिरिक्त आय प्राप्त की है। इसके साथ-साथ वे धान की खेती एवं अन्य मजदूरी कार्य भी करते हैं। 
सहायक संचालक रेशम, बिलासपुर ने बताया कि जिले के ८ विकासखण्डों में १४ तसर केन्द्र संचालित हैं। कोसा उत्पादन में ४० ग्रामों के २९४ हितग्राही कार्यरत हैं। ये हितग्राही १४ समूहों में गठित हैं। उनके द्वारा रेशम कीट पालन केन्द्रों का संधारण किया जा रहा है साथ ही साथ कीट पालन के लिये रोपे गये साजा, अर्जुन के पौधों पर कोसा फल का उत्पादन किया जा रहा है। उत्पादित कोसा को ककून बैंक के माध्यम से शासन द्वारा निर्धारित दर पर विक्रय किया जाता है। जिससे समूह आर्थिक उपार्जन करते हैं।  उल्लेखनीय है कि बिलासपुर जिले में तसर कोसा कीट पालन हेतु खाद्य पौधों से आच्छादित घने वन हैं। कोसा उत्पादन की अपार संभावनाओं तथा उत्पादन अच्छा होने से कोसा उत्पादन परम्परागत व्यवसाय का रूप ले रही है।