ग्वालियर। जीवाजी विश्वविद्यालय में एक शिक्षक को जान से मारने की धमकी देने का मामला तूल पकड़ गया है। शुक्रवार को प्रभारी कुलपति ने अधिकारियों की बैठक ली और जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी बना दी। इस कमेटी में अविनाश तिवारी, राकेश कुशवाह, राजीव मिश्रा को शामिल किया गया है। कमेटी पूरे घटनाक्रम की रिपोर्ट विवि प्रशासन को सौंपेगी।

बीते बुधवार को सहायक प्राध्यापक रुपेन्द्र कुमार गोयल फार्मेसी संस्थान में कक्षा लेने के बाद परीक्षा विभाग में बैठे थे और चार्ट में करेक्शन कर रहे थे। उनके पास गोपनीय विभाग में पदस्थ कर्मचारी कोक सिंह गुर्जर परिणाम सुधार के लिए आया। कोक सिंह ने वर्ष 2016 के एक छात्र का परीक्षा परिणाम संशोधित करने को कहा। करेक्शन के लिए पर्याप्त दस्तावेज व आदेश नहीं थे इसलिए शिक्षक को शंका हुई तो उन्होंने करेक्शन करने से इनकार कर दिया। इसको लेकर कर्मचारी ने रुपेन्द्र कुमार को जान से मारने की धमकी दे दी, जिससे वे घबरा गए। उसके बाद रुपेन्द्र अधिकारियों के पास पहुंचे, वहां भी कोक सिंह पहुंच गया और अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया। बंद कमरे की घटना गुरुवार को बाहर आई तो जेयू के कर्मचारी हैरान रह गए। शुक्रवार को प्रभारी कुलपति एके श्रीवास्तव ने अधिकारियों की बैठक बुला ली। बैठक में कुलसचिव आईके मंसूरी, डिप्टी रजिस्ट्रार राजीव मिश्रा मौजूद थे। पूरी घटना पर चर्चा के बाद उन्होंने जांच के लिए कमेटी बना दी। यह कमेटी पूरे घटनाक्रम की जांच करेगी।