सिडनी । कुलदीप यादव और यजुवेंद्र चहल की स्पिन जोड़ी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एकदिवसीय क्रिकेट सीरीज में कहर ढ़ाने तैयार है। भारतीय टीम शनिवार से शुरु हो रही एकदिवसीय सीरीज में जीत के इरादे से उतरेगी। 
इसके लिए कुलदीप और यजुवेंद्र ने खास तैयारियां की हैं। यजुवेंद्र को कुलदीप इस सीरीज में बेहतर प्रदर्शन कर विश्व कप के लिए संभावित टीम में अपनी जगह पक्की करना चाहेंगे। एकदिवसीय मैचों में इन दोनो स्पिनरों की जोड़ी पिछले कुछ समय के दौरान बेहद कामयाब रही है।
कुलदीप और यजुवेंद्र की कामयाबी का सबसे बड़ा राज है उनका गेंदों में वेरिएशन (विविधता)  है। यह दोनो ही गेंदों की रफ्तार और लेंथ में किए गए वेरिएशन से बल्लेबाजों पर दबाव बनाते हैं। जिस प्रकार टेस्ट सीरीज में स्पिनरों को पिच से सहायता मिली है उससे साफ है कि यह दोनो एकदिवसीय सीरीज में मेजबानों के लिए मुसीबत बन सकते हैं। बीच के ओवरों में यह दोनो बल्लेबाजों पर अंकुश लगा कर दबाव बनाते हैं। 
इन दोनों गेंदबाज़ों की फ़्लाइट और गेंदों को मिलने वाला ‘डिप’ भी आस्ट्रेलिया के लिए परेशानी का कारण बन सकता है। चहल और कुलदीप यादव ने धोनी के साथ भी काफी समय बिताया है। इन दोनों गेंदबाजों ने अपनी हालिया कामयाबी का श्रेय कई बार धोनी को दिया है। धोनी कीपिंग करते समय इन दोनों ही गेंदबाजों को अपना सलाह देते रहते हैं।
इन दोनों गेंदबाजों का पिछला प्रदर्शन शानदार रहा हैं। यजुवेंद्र ने पिछले साल 2018 में 17 एकदिवसीस मैच खेले। इसमें उन्होंने 29 विकेट हासिल किए। वहीं कुलदीप यादव ने भी पिछले साल शानदार प्रदर्शन किया है।उन्होंने 19 एकदिवसीय मैच खेले हैं। इसमें उन्होंने 39 विकेट हासिल किए हैं। कुछ ही महीने बाद टीम इंडिया को विश्व कप खेलना है। विश्व कप इंग्लैंड में खेला जाएगा। जिसकी पिचों पर स्पिनर अहम भूमिका निभाएंगे। विश्व कप से पहले टीम इंडिया को कुल 13 एकदिवसीय मैच खेलने हैं। इन 13 एकदिवसीय मैचों में यजुवेंद्र और कुलदीप के प्रदर्शन से ही तय होगा कि कौन अंतिम ग्यारह में खेल सकता है।