सनातन धर्म और ज्योतिष शास्त्र में तिथियों का विशेष महत्व होता है। हिंदू पंचांग के अनुसार पूर्णिमा और अमावस्या की तिथि मनुष्यों पर विशेष प्रभाव डालती है। हिन्दू पंचांग के मुताबिक साल में 12 पूर्णिमा और 12 अमावस्या आती हैं। प्रत्येक महीने के 30 दिन को चन्द्र काल के अनुसार 15-15 दिन के दो पक्षों में विभाजित किया गया है। एक पक्ष को शुक्ल पक्ष तो दूसरे पक्ष को कृष्ण पक्ष में बांटा गया है। जब शुक्ल पक्ष चल रहा होता है उसके अन्तिम दिन यानी 15वें दिन को पूर्णिमा कहते हैं वहीं जब कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन होता है तो वह अमावस्या होती है। 
पूर्णिमा
पूर्णिमा वाले दिन चांद अपने पूरे आकार में होता है। यानी जिस दिन आकाश में चंद्रमा अपने पूरे आकार में दिखाई देता हो उस दिन पूर्णिमा होती है। पूर्णिमा प्रत्येक महीने में एक बार जरूर आती है। धर्म ग्रंथों में  पूर्णिमा को विशेष लाभकारी और पुण्यदायी होती है। हिन्दू धर्म में पूर्णिमा के दिन दान, स्नान और व्रत रखने की परंपरा होती है। साल की 12 पूर्णिमाओं में कार्तिक पूर्णिमा, वैशाख पूर्णिमा, माघ पूर्णिमा, शरद पूर्णिमा, गुरु पूर्णिमा, बुद्ध पूर्णिमा को विशेष महत्व होता है।
ज्योतिष महत्व 
ज्योतिष शास्त्र में पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है। ज्योतिष में चंद्रमा को मन का कारक माना गया है। ज्योतिष की लगभग प्रत्येक गणना में चंद्रमा को केन्द्र में रखकर भविष्यवाणी की जाती है। पूर्णिमा के दिन महान साधु संतों का जन्म दिन और त्योहार मनाया जाता है।  
पूर्णिमा का वैज्ञानिक महत्व
चांद का गहरा संबंध पृथ्वी पर मौजूद जल से होता है। जब भी पूर्णिमा की तिथि आती है उस दिन समुद्र में ज्वार-भाटा आता है। वैज्ञानिक नजरिए से पूर्णिमा के दिन चंद्रमा समुद्र के पानी को ऊपर की ओर खींचता है। पूर्णिमा के दिन जल की गति और गुण बदल जाने के कारण इसका प्रभाव मनुष्यों के शरीर पर भी पड़ता है क्योंकि मनुष्यों के शरीर में लगभग 80 फीसदी पानी होता है। वैज्ञानिक मत के अनुसार पूर्णिमा के प्रभाव से मनुष्यों के रक्त में न्यूरॉन कण अधिक क्रियाशील हो जाते है जिसके कारण इस दिन मनुष्यों के स्वभाव में परिव्रर्तन आ जाता है। पूर्णिमा की रात को मनुष्य का मन ज्यादा बेचैन रहता है और नींद कम आती है। इस दिन जिन व्यक्तियों का दिमाग कमजोर होता है उनके मन में आत्महत्या या हत्या करने के विचार बढ़ जाते हैं।
साल 2019 में पूर्णिमा 
सोमवार, 21 जनवरी         पौष पूर्णिमा व्रत
मंगलवार, 19 फरवरी       माघ पूर्णिमा व्रत
गुरुवार, 21 मार्च             फाल्गुन पूर्णिमा व्रत
शुक्रवार, 19 अप्रैल          चैत्र पूर्णिमा व्रत
शनिवार, 18 मई             वैशाख पूर्णिमा व्रत
सोमवार, 17 जून            ज्येष्ठ पूर्णिमा व्रत
मंगलवार, 16 जुलाई       आषाढ़ पूर्णिमा व्रत
गुरुवार, 15 अगस्त         श्रावण पूर्णिमा व्रत
शनिवार, 14 सितंबर       भाद्रपद पूर्णिमा व्रत
रविवार, 13 अक्टूबर      अश्विन पूर्णिमा व्रत
मंगलवार, 12 नवंबर       कार्तिक पूर्णिमा व्रत
गुरुवार, 12 दिसंबर        मार्गशीर्ष पूर्णिमा व्रत