नई दिल्‍ली,  इन्‍फोसिस के को-फाउंडर नंदन नीलेकणी पूर्व की यूपीए सरकार ने आधार के मास्टर माइंड को केन्द्रीय रिजर्व बैंक के डिजिटल पेमेंट समिति का प्रमुख नियुक्त किया गया है. आरबीआई ने डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए डिजिटल पेमेंट कमेटी समिति गठित की है.  इस कमेटी में नीलेकनी समेत पांच सदस्य होंगे. कमेटी में नीलेकणी के अलावा पूर्व आरबीआई डिप्टी गवर्नर एच आर खान, विजया बैंक के पूर्व एमडी और सीईओ किशोर सनसी, आईटी और स्टील मंत्रालय में पूर्व सचिव अरुणा शर्मा और आईआईएम अहदाबाद के चीफ इनोवेशन ऑफिसर संजय जैन शामिल हैं.

क्‍या होगा काम

कमेटी का काम देश में डिजिटल पेमेंट की मौजूदा स्थिति और इसकी खामियों के बारे में जानकारी इकट्ठा करना और इन समस्याओं को दूर करने के उपाय सुझाना है. इसके अलावा कमेटी डिजिटल पेमेंट के अधिक इस्तेमाल से अर्थव्यवस्था और वित्तीय समावेशन में तेजी लाने के लिए क्रॉस कंट्री एनालिसिस भी करेगी. यह कमेटी पहली बैठक के 90 दिनों के बाद अपनी रिपोर्ट पेश करेगी.

कौन हैं नंदन नीलेकणी

बता दें कि देश की दूसरी बड़ी सॉफ्टवेयर निर्यातक कंपनी इन्‍फोसिस ने 2017 में नंदन नीलेकणी को कंपनी का चेयरमैन नियुक्त किया था. आधार परियोजना को लेकर चर्चा में रहे नीलेकणि मार्च 2002 से अप्रैल 2007 तक कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी थे. उसके बाद वह केंद्र सरकार के भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण यूआईडीएआई के प्रमुख बनाये गये.नीलेकणी 2014 में कांग्रेस के टिकट पर बंगलूरु की साउथ सीट से लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं. हालांकि, उन्हें भाजपा के अनंत कुमार से हार का सामना करना पड़ा था. वे 2015 से राजनीति में सक्रिय नहीं हैं.