जयपुर। राजस्थान के बांसवाड़ा कॉलेज से गांव में छात्रों को छोड़ने जा रही बस में अचानक आग लग गई। हालांकि ड्राइवर की सूझबूझ से इन 30 छात्रों की जान बच गई। चालक ने सूझबूझ दिखाते हुए तत्काल छात्रों को बस से बाहर निकाला और उनकी जान बचाई। सूचना पर आसपास के गांव के लोग भी पहुंच गए फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पाया।
कुशलगढ़ थाना क्षेत्र के चुण्डाणा गांव के समीप लियो कॉलेज बांसवाड़ा की यह बस छात्रों को छोड़ने जा रही थी। कुशलगढ़ से करीब 5 किलोमीटर दूर तामेसरा गांव के समीप अचानक चालक पारस पांचाल को जलने की बदबू आई। उसने बस साइड में लगाकर छात्रों को बस से उतार दिया। जैसे ही बोनेट खोला धुंए का गुबार उठा और आग भभक उठी। यह देखकर बच्चे घबरा गए और तत्काल पुलिस को सूचना दी गई।
सूचना पर पहुंचे एएसआई चंद्रवीर सिंह ने बताया कि बस लियो कॉलेज की थी। सभी बच्चों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। बस में आग वायरिंग सर्किट से होना सामने आया है। घटना के दौरान बस में करीब 30 छात्र सवार थे। घटना के बाद लगभग 30 मिनट बाद नगर पालिका की दमकल पहुंचकर आग पर काबू पाया।