मुम्बई । भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावसकर ने कहा है कि विराट कोहली की बल्लेबाजी शानदार है पर उनकी कप्तानी को लेकर वह अभी पूरी तरह आश्वस्त नहीं हैं। गावस्कर ने साथ ही कहा कि कोहली बहुत जल्दी सीखते हैं और अगर वह ऐसा लगातार कर पाए तो भारत के 'सर्वश्रेष्ठ कप्तान' बन सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि मैदान पर आक्रामक दिखना ही किसी कप्तान के जुनूनी होने का सबूत नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर कोई कहता है कि महेंद्र सिंह धोनी, राहुल द्रविड़ या अनिल कुंबले में जुनून नहीं था क्योंकि वह आक्रामक नजर नहीं आते थे तो यह गलत है। 
वहीं ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पर्थ टेस्ट में हारने के बाद गावसकर ने कहा था कि अगर भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बाकी बचे दो टेस्ट मैचों में जीत दर्ज करने में नाकाम रहती है तो विराट कोहली और रवि शास्त्री की कप्तान और कोच के रूप में भूमिका की समीक्षा की जानी चाहिए। उन्होंने टीम प्रबंधन की चयन में की गई गलती की कड़ी आलोचना की थी। भारत ने पर्थ में दूसरा टेस्ट मैच 146 रन से गंवाया था। इसके बाद भारत ने मेलबर्न में जीत हासिल कर सीरीज में 2-1 की अजेय बढ़त हासिल कर ली थी।