भोपाल: मध्य प्रदेश में सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे परिवहन के एक कथित 'कोटेशन' को लेकर सियासत गर्मा गई है. यह कथित कोटेशन मुख्यमंत्री आवास से सामान ढुलाई का है. इस पर पुलिस की साइबर सेल ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

बीते दो दिनों से राज्य के सोशल मीडिया पर एक कथित 'कोटेशन' वायरल हो रहा है. यह 'कोटेशन' मुख्यमंत्री आवास से सामान ढुलाई का है जो अग्रवाल पैकर्स एंड मूवर्स का है. इसमें 26 ट्रक और मिनी ट्रक के अलावा तीन कैश वैन व एक फाइल फोल्डर के लिए मिनी ट्रक का ब्यौरा दर्ज है और सामान ढुलाई का कुल 15 लाख का 'कोटेशन' है. यह कथित 'कोटेशन' मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम पर है और इसमें लिखी ई-मेल आईडी उनके बेटे कार्तिकेय की बताई जा रही है. सामान को भोपाल से महाराष्ट्र के गोंदिया ले जाने की बात कही गई है.

साइबर सेल में शिकायत
इस कथित 'कोटेशन' को लेकर अग्रवाल पैकर्स एंड मूवर्स की ओर से साइबर सेल में शिकायत दर्ज कराई गई है. साइबर सेल एसपी राजेश भदौरिया ने बताया कि इस मामले में साइबर सेल ने केस दर्ज कर लिया है. इस मामले की जांच की जा रही है.

डर्टी ट्रिक्स पॉलिटिक्स
वहीं, बीजेपी के वरिष्ठ नेता हितेश वाजपेयी का कहना है कि यह काम कांग्रेस की डर्टी ट्रिक्स सेल का काम है. मुख्यमंत्री तो गांव के निवासी हैं. वह प्रदेश की जनता और किसानों के दिल में बसते हैं. 

 

यह बीजेपी का काम
कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता दुर्गेश शर्मा ने बीजेपी पर पलटवार करते हुए कहा कि डर्टी ट्रिक्स सेल तो बीजेपी चलाती है. उसका काम ही फेक वीडियो और ऑडियो बनाना रहा है. यह 'कोटेशन' भी बीजेपी के लोगों का ही काम है. सरकार तो जा रही है इसलिए बीजेपी के लोगों ने पहले से ही यह सब काम शुरू कर दिए हैं.