इंदौर। मिस इंडिया अर्थ 2014 रह चुकी अलंकृता सहाय के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं कि इस खूबसूरत मॉडल और एक्ट्रेस का नाता इंदौर से भी है। बचपन के करीब तीन साल शहर में गुजारने वाली अलंकृता सहाय के मन में शहर की याद केवल उनके स्कूल व प्रिंसिपल के नाम और यूनिफॉर्म के पैटर्न तक की ही है। पर इस जरा सी याद से भी वे इस तरह खुश हो जाती हैं मानो एक लंबा वक्त यहां गुजारा हो। अलंकृता मंगलवार को एक बुटिक के उद्घाटन के लिए इंदौर आई थीं। इस दौरान मीडिया से हुई चर्चा में उन्होंने अपनी यादों को अनुभवों की खुशबू के साथ साझा किया।

मिस दिवा 2014 की फर्स्ट रनरअप, 'लव पर स्क्वेयर फुट' और 'नमस्ते इंग्लैंड' फिल्म में अभिनय कर चुकी अलंकृता ने मॉडलिंग और अभिनय का सपने में भी नहीं सोचा था। उनके पिता कॉर्पोरेट वर्ल्ड में जॉब करते थे और दादाजी प्रशासनिक अधिकारी थे। वे कहती हैं कि दादाजी का प्रभाव मन पर पड़ा और मेरा सपना भी आईएएस ऑफिसर बनने का था।
पिता के जॉब के सिलसिले में कई शहरों में रहना हुआ। दिल्ली से जब मैं दोस्तों के साथ घूमने के लिए मुंबई गई तो वहां लोखंडवाला में किसी ने मुझे ऑडिशन के लिए ऑफर दिया। बाद में दोस्तों ने बिना पूछे मेरी फोटोग्राफ मॉडलिंग के लिए शेयर की और मेरा सिलेक्शन हो गया।

वे कहती हैं जब मैं मुंबई गई तो वहां सबकुछ मेरे लिए नया था। मुंबई एक ऐसा शहर है जो बहुत मेहनत कराता है तो सफलता भी देता है। घर में हम एक सेफ झोन में होते हैं और जब तक इस सेफ झोन के दायरे से बाहर नहीं निकलते कुछ हासिल नहीं होता।