भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में यूनियन कार्बाइड हादसे की 34वीं बरसी पर हादसे मे जान गंवाने वाल हजारो मृतको श्रद्धा सुमने अर्पित करने के लिए श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। राजधानी की सेन्ट्रल लाइब्रेरी में सर्वधर्म प्रार्थना सभा हुई, जिसमे हिन्दू, मुस्लिम, सिख, इसाई, जैन, बौध और बोहरा समाज के धर्मगुरु शामिल हुए। इस दौरान धर्म गुरुओ ने धर्म ग्रंथो का पाठ कर दिवंगत आत्माओ को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान दिवंगतों को श्रद्धांजलि देने के लिए दो मिनट का मौन भी रखा गया। जानकारी के अनुसार श्रद्धांजलि सभा में शामिल हुए गैस राहत राज्य मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि गैस पीड़ितों के आर्थिक पुनर्वास और स्वास्थय सुविधाएं पहुंचाने के लिए सरकार ने योजनायें चला रही है। वहीं उन्होंने यह भी कहा कि आज सभी ने यहां संकल्प लिया है, कि पर्यावरण का संरक्षण करेंगे और कोशिश करेंगे की इस तरह के हादसे की पुनर्रावत्ति न हो, क्योकिं लापरवाही की  वजह से ही इतना बड़ा हादसा हुआ था। इस श्रद्धांजलि सभा में गैस राहत राज्य मंत्री विश्वास सारंग, भोपाल कलेक्टर सुदाम खाडे, प्रमुख सचिव स्वास्थ गौरी सिंह सहित अन्य अधिकारी भी सभा में मौजूद रहे। गैरतलब है कि भोपाल गेस त्रासदी को 34 साल बीत गए लेकिन पीड़ितों के जख्म अब भी हरे है, गैस पीडीतो का कहना है कि.हर साल दिवंगतों को श्रद्धांजलि देकर सरकार खानापूर्ति तो करती है, लेकिन समस्या का समाधान आज तक नहीं हो पाया। वही गैस कांड कि बरसी पर सयुक्त संघर्ष मोर्चा द्वारा पुराने शहर के इतवारा चौराहा पर गेस त्रासदी मे जान गंवाने वाले दिवंगतो को श्रद्दान्जली दी गई। इस दौरान संगठन के पदाधिकारियो सहित यहा मोजूद बडी संख्या मे स्थानीय रहवासियो ने अपने गुस्से का इजहार करते हुए गैस कांड के आरोपियों की अर्थी निकाली। वही गैस कांड कि बरसी पर सोमवार दोपहर को भारत टॉकीज से यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री तक भोपाल गैस कांड की 34 वीं बरसी के मौके पर गैस पीडित संगठनो ने रैली निकानी इस रैली मे बडी संख्या मे गैस पीडीत शामिल हुए। रैली के जहरीले कारखाने पहुंचने पर कम्पनियों का पुतला दहन कर लोगो ने अपना आक्रोश जताया।