नई दिल्ली,  क्रिकेट के फटाफट फॉर्मेट यानी इंडियन प्रीमियर लीग 2019 से पहले खिलाड़ियों की नीलामी 18 दिसंबर को जयपुर में होगी. यह नीलामी एक दिन की होगी और इसके आयोजन स्थल में भी बदलाव किया गया है जो अब बेंगलुरू की जगह जयपुर में होगी. बीसीसीआई ने सोमवार को यह जानकारी साझा की है.

इस बार सिर्फ 70 खिलाड़ियों को नीलामी में जगह दी गई है जिसमें 50 भारतीय और 20 विदेशी खिलाड़ी शामिल हैं. आठ टीमों के पास नीलामी में बोली लगाने के लिए कुल 145 करोड़ 25 लाख रुपये की राशि है. नीलामी से पहले पिछले महीने टीमों ने रिटेन किए हुए खिलाड़ियों के नामों की घोषणा की और इस दौरान कुछ बड़े नामों को रिलीज किया. किंग्स इलेवन पंजाब ने युवराज सिंह जबकि दिल्ली डेयरडेविल्स ने गौतम गंभीर को रिलीज किया है.

साल 2018 सत्र की नीलामी में जयदेव उनादकट के लिए 11 करोड़ 50 लाख रुपये की बोली लगाने के बाद राजस्थान रायल्स ने इस तेज गेंदबाजी को रिलीज कर दिया है. सनराइजर्स हैदराबाद ने चोटिल भारतीय विकेटकीपर रिद्धिमान साहा और वेस्टइंडीज के टी-20 कप्तान कार्लोस ब्रेथवेट को टीम में बरकरार नहीं रखा.

मुंबई इंडियन्स ने भी जेपी डुमिनी, पैट कमिंस और मुस्तफिजुर रहमान जैसे टॉप इंटरनेशनल खिलाड़ियों को टीम में जगह नहीं दी. आम चुनावों के साथ अगर तारीखों का टकराव होता है तो 2019 IPL के कुछ हिस्से या पूरे टूर्नामेंट का आयोजन भारत के बाहर हो सकता है.

टीम इंडिया पर असर?

भारतीय कप्तान विराट कोहली विश्व कप से पहले होने वाले आईपीएल में तेज गेंदबाजों को विश्राम देना चाहते हैं. लेकिन सीओए में रखे गए इस प्रस्ताव को फ्रेंचाइजी टीमों का समर्थन मिलने की उम्मीद नहीं है. हैदराबाद में हाल में सीओए के साथ बैठक के दौरान कोहली ने तेज गेंदबाजों विशेषकर जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार को पूरे आईपीएल से विश्राम देने का सुझाव दिया, ताकि वे विश्व कप के लिए तरोताजा रहें. दोनों गेंदबाज भारतीय टीम की अहम कड़ी माने जाते हैं और आईपीएल के दौरान अक्सर तेज गेंदबाजों के चोटिल होने का खतरा बना रहता है.