एडिलेड:  भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट की सीरीज का पहला मैच एडिलेड में 6 दिसंबर से शुरू होने जा रहा है. इस सीरीज में टीम इंडिया का ऑस्ट्रेलिया की तेज और उछाल भरी पिचों में भारतीय बल्लेबाजों का कड़ा इम्तिहान होगा. वहीं टीम इंडिया के गेंदबाजों के पास भी मौका है कि वे यहां गेंदबाजी के लिए मुफीद माहौल का फायदा उठाकर बढ़िया प्रदर्शन करें. विशेषज्ञों का मानना है कि टीम इंडिया के पास इस समय अब तक का सबसे बढ़िया गेंदबाजी अटैक है. एडिलेड टेस्ट से पहले पिच क्यूरेटर ने इस बात की जानकारी दी कि उन्होंने पिच किस तरह से तैयार की है. 

एडिलेड के क्यूरेटर डैमियन हॉग ने शनिवार को यहां कहा कि उन्होंने पिच पर ‘थोड़ी घास’ रहने दी है. पिछले तीन सत्रों में यहां दिन-रात्रि का टेस्ट मैच खेला गया था जिसमें पहला टेस्ट तीन दिन तक चला था, दूसरा चार दिन तक और तीसरा टेस्ट पांचवें दिन के पहले सत्र तक चला था. हॉग ने कहा कि दिन-रात्रि के टेस्ट में गुलाबी गेंद की चमक बरकरार रखने के लिए घास की अतिरिक्त परत को छोड़ा गया है और उन्हें नहीं लगता कि गुरूवार से लाल गेंद से शुरू हो रहे टेस्ट मैच के लिए पिच में कोई बदलाव करना चाहिए. 

घास छोड़ने की यह वजह बताई
हॉग ने द वीकेंड ऑस्ट्रेलियन से कहा, ‘‘हम कुछ अलग नहीं कर रहे. हमारी तैयारी उसी तरह (गुलाबी गेंद) की है. सिर्फ यह बदलाव होने वाला है कि हम कवर को जल्दी हटा देंगे और खेल जल्दी शुरू होगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘शील्ड स्तर के क्रिकेट मैच में भी हम लाल गेंद और गुलाबी गेंद से क्रिकेट के लिए एक ही तरह से पिच तैयारी करते हैं. यह जरूरी है कि पिच पर थोड़ी घास छोड़ी जाए ताकि गेंद और बल्ले के बीच बराबरी का मुकाबला हो सके.’’ 
भारतीय के लिए फायदेमंद होगी एडिलेड टेस्ट से शुरुआत
गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाड ज्यौफ लासन ने कहा था कि एडीलेड में सीरीज शुरू होना भारत के लिए फायदेमंद होगा. उन्होंने कहा, ‘‘पहला टेस्ट एडीलेड में है सो भारत को मनचाही मुराद मिल गई. वे ब्रिसबेन या पर्थ से शुरूआत नहीं करना चाहते होंगे.’’ लासन का मानना है कि इस सीरीज में टीम इंडिया के गेंदबाज ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को खासा परेशान कर सकते हैं. लासन ने कहा, ‘‘भारत के पास कुछ बेहतरीन तेज गेंदबाज हैं और अच्छे स्पिनर भी हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ईशांत शर्मा आखिरी बार यहां आए हैं और उनकी गेंदों में अतिरिक्त उछाल है. उमेश यादव अच्छी गेंदबाजी करते हैं और मोहम्मद शमी के पास स्विंग है. भुवनेश्वर कुमार भी स्विंग करा लेते हैं.’