छोटे-छोटे बच्चे आजकल सेहत संबंधी कई तरह की परेशानियों का शिकार हो रहे हैं। कभी खांसी-जुकाम तो कभी आंखों की कमजोरी आम सुनने को मिलती है। इसका सबसे अहम खान खान-पान की तरफ ध्यान न देना है। जिससे शरीर को विटामिन और मिनरल्स नहीं मिल पाते और प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने लगती है। सब्जियां और फल खाने में वे अक्सर आनाकानी करते हैं लेकिन अगर उनकी पसंद और पौष्टिकता में तालमेल बिठाया जाए तो उनका विकास अच्छे तरीके से होगा और परेशानी काफी हद तक दूर हो जाएगी। 

जानें किस तरीके से बच्चे को दें जरूरी पोषण
- कैलोरी से भरपूर आहार
बच्चे के शारीरिक विकास के लिए कैलोरी बहुत जरूरी है। हाई कैलोरी फूड्स का मतलब तला हुआ खाना नहीं बल्कि दूध और साबुत अनाज है। उन्हे कॉर्नफ्लैक्स, ओट्स आदि दे सकते हैं। 

- प्रोटीन
प्रोटीन की कमी से शारीरिक विकास सही तरीके से नहीं हो पाता है और मस्तिष्क संबंधी भी कई तरह के विकार पैदा हो जाते हैं। इसके अलावा मांसपेशियों और हड्डियों का मजबूती के लिए भी प्रोटीन बहुत जरूरी है। उनके आहार में दूध, दही के अलावा मछली, अंडे, पनीर आदि शामिल करें। ये सब चीजें स्नैक्स के रूप में भी खिलाई जा सकती हैं।  

- विटामिन और मिनरल्स
प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनाने के लिए बच्चों को संपूर्ण मात्रा में विटामिन और मिनरल दें। इसमें फल, सूप, जूस आदि शामिल हैं। आप पास्ता या ओट्स में हरी सब्जियां डालकर भी बच्चे को खिला सकते हैं। 

- पानी और फाइबर
बड़ों की तरह बच्चों को भी बॉडी हाइड्रेट करने की बहुत ज्यादा जरूरत होती है। थोड़ी-थोड़ी मात्रा में उसे पानी पिलाते रहे। इसके अलावा सूप और जूस भी बहुत जरूरी हैं। इससे शरीर में फाइबर की कमी भी पूरी हो जाएगी।
 

संतुलित आहार देने के जरूरी टिप्स
यह बात बिल्कुल सही है कि बच्चे को पोषण देने के लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी। इसके लिए आप कुछ जरूरी बातों पर ध्यान दे सकते हैं। 

1. शुरुआत में रोजाना बच्चे को 5 तरह के अलग-अलग आहार खिलाएं। इस बात का ध्यान रखें कि इनमें पौष्टिक तत्व भरपूर मात्रा में शामिल हो। आनाकानी करते हुए भी वह थोड़ा-सा खा ही लेगा। 

2. बच्चे को डांट के साथ नहीं बल्कि प्यार से समझाएं। उसे खेल-खेल में खाना खिलाएं। 

3. कलरफुल चीजें बच्चे को बहुत पसंद होती हैं। यह बात आपके लिए फायदेमंद हो सकती है। उन्हें सलाद, फल और सब्जियां काट कर दें। आप चाट, रायता आदि भी दे सकते हैं। 

4. बच्चो को खेलनी दें, वह जितना ज्यादा थकेगे उन्हें उतनी ही भूख लगनी शुरू हो जाएगी। वह खुद खाना मागेगा। 

5. बच्चे को पौष्टिक खाना खाने की आदत डालें और जंकफूड से बच्चे को दूर रखें। इसके लिए बर्गर के साथ सलाद खाने को दें। पास्ता में ब्रोकली, स्वीट कॉर्न, बेबी कॉर्न और ऑलिव डालें।