जम्मू। सीमा पर पाकिस्तान की लगातार गोलाबारी, घुसपैठ की नापाक हरकतें, आतंकी हमलों और अलगाववादियों के चुनाव बहिष्कार की धमकियों के बीच आज यानी शनिवार को जम्मू कश्मीर के 15 जिलों में पंचायत चुनाव के पहले चरण का मतदान हो रहा है। ढेरों चुनौतियों और कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच ग्रामीण लोकतंत्र को मजबूत बनाने के लिए मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए मतदान केंद्रों पर पहुंच रहे हैं। सुबह 11 बजे तक 18.5 प्रतिशत मतदान हो चुका था। चुनाव में मतदान सुबह आठ से शुरू होकर दोपहर दो बजे तक चलेगा।

मतदान के लिए 3,296 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं। इनमें 1,303 कश्‍मीर और 1,993 जम्‍मू हैं। पहले चरण के तहत मतदान वाले इलाकों में शुक्रवार को पोलिंग स्टाफ और सुरक्षाबलों ने डेरा डाल लिया था। कश्मीर संभाग के दस जिलों में मतदान की सुरक्षा को लेकर बड़े पैमाने पर कदम उठाए गए हैं।
इस बीच, राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी शालीन काबरा ने पंचायत चुनाव की तैयारियों की समीक्षा करने के साथ-साथ पीठासीन अधिकारियों को मतदान के दौरान पारदर्शिता बनाए रखने के निर्देश दिए हैं।

बता दें कि कश्मीर केंद्रित पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी व नेशनल कांफ्रेंस चुनाव का बहिष्कार कर रही हैं, ऐसे में स्थानीय निकाय चुनाव के बाद ग्रामीण इलाकों में पैठ बनाने के लिए कांग्रेस व भाजपा में टक्कर होगी। कहने को यह चुनाव गैर राजनीतिक आधार पर हो रहे हैं, लेकिन राजनीतिक पार्टियों ने इस चुनाव में अपने-अपने उम्मीदवार उतारे हैं।
आज इन जिलों में होगा मतदान

-कठुआ, राजौरी, पुंछ, ऊधमपुर, डोडा, रामबन व किश्तवाड़, श्रीनगर, गांदरबल, बड़गाम, बारामुला, बांडीपोरा, कुपवाड़ा, लेह व कारगिल।