नई दिल्ली,  पांच राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनाव में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस के बीच तीखी नोक-झोंक छिड़ गई है. प्रधानमंत्री मोदी के एक परिवार के इतर किसी अन्य को पार्टी अध्यक्ष बनाने के चैलेंज पर कांग्रेस की ओर से पी चिदंबरम ने करारा प्रहार करते हुए जवाब दिया है.

शुक्रवार को छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए PM मोदी ने कहा था, 'मैं तो हर रोज अपने चार सालों का हिसाब देता हूं. कांग्रेस वाले अभी भी आंसू बहाते हैं कि चायवाला देश का प्रधानमंत्री कैसे बन गया. जब तक आप लोकतंत्र को नहीं समझोगे तो चायवाले को गाली देते रहोगे. ये कह रहे हैं कि नेहरू की वजह से चायवाला प्रधानमंत्री बना, तो एक बार 5 साल के लिए अपने परिवार के बिना किसी को पार्टी का अध्यक्ष बनाकर दिखा दो.'

मोदी के गांधी-नेहरू परिवार के अलावा किसी दूसरे परिवार के सदस्य को कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने के चैलेंज पर पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने शनिवार को एक के बाद एक ट्वीट करते हुए जोरदार जवाब दिया. उन्होंने 15 नाम गिनाए जो कांग्रेस अध्यक्ष बने और गांधी परिवार से बाहर के थे.
चिदंबरम ने अपने ट्वीट में प्रधानमंत्री मोदी की याददाश्त पर सवाल उठाते हुए कहा कि 1947 में आजादी के बाद से कांग्रेस में 15 ऐसे अध्यक्ष हुए जो गैर गांधी परिवार से थे.
उन्होंने आजादी के बाद से गैर गांधी परिवार से कांग्रेस के अध्यक्ष बने लोगों के नाम गिनाए. जिनमें आचार्य जेबी कृपलानी, पट्टाभि सितारमैया, पुरुषोत्तम दास टंडन, यूएन धेबर, नीलम संजीव रेड्डी, संजीवैहा, कामराज, एल निजलिंगप्पा, सी सुब्रमणियम, जगजीवन राम, शंकर दयाल शर्मा, डीके बरुआ, ब्रह्मानंद रेड्डी, पीवी नरसिम्हा राव और सीताराम केसरी लोग शामिल है.