मेष - उग्र स्वाभाव के कारण सज्जनों से दुरी बनेगी, पुण्य कर्म करने से सबसे अनुराग बनेगा। मेल मिलाप होंगा  सहजता से व्यवाहर करें।

वृष  - मान सम्मान और सत्याचरण कर, दूसरों से लाभ उठायेंगे, कामुकता से बचें, पत्नी को प्रसन्न रखें।धर्मपरायण बने। 

मिथुन - पुण्यप्रद कार्य और सुशिल व्यवाहर करने से, संतानों की और से आपको ढेरसारा मान सम्मान मिलेगा।निर्दयी स्वभाव से बचें। 

कर्क - बुध/शनि के प्रबल योग के कारण भूमि-भवन का लाभ होगा , वश में की गयी अभिलाषाओं की पूर्ति होगी। प्रभूत पराक्रमी बने।

सिंह - सुंदर-मनोहर संतान प्राप्ति के सुयोग है, सम्मानित  परिजनों से मित्रता पूर्ण व्यवहार करें, शुभता मिलेंगी।  उदारता से दान-पुण्य  करें। 

कन्या - प्रधानता पाने के लिए क्षमाभाव  से युक्त रहे, पाप रहित , निःस्वार्थ आचरण करने से प्रधान  बनेगे। अति उत्साह से बचें। 

तुला - अनेक प्रकार के  राजसी वाहनों का सुख मिलेगा , कल्याणकारी कार्यों में निरत लगे रहे , राजयोग उत्तम .सदैव परिश्रम का भाव जागृत रखे।
 
वृश्चिक -
संकल्पित कार्यों को शीघ्र करें, निश्चित धन पाने के योग है, बल-वीर्य से संपन्न होगे, सफलता मिलेंगी। नीति  विचार बिलकुल न करें।

धनु -काफ से परेशान होगे, प्रभाहीन कान्ति, दिनहीन बनाएगी बनाएगी, गुण रहित कार्यों से नुकसान होगा।  कुकर्मों व् जड़ता से बचे। 

मकर- पराया अन्न खाने हेतु बाध्य होंगे, भयभीत रहेंगे, राजपक्ष से पीड़ित होगे, ज्ञानहीनता की सजा मिलेगी।  दुष्ट स्वाभाव से बचना होगा। 

कुम्भ - अनेक कुमित्रों से घिरे रहेगे, गुरु और शनि का विपरीत प्रभाव , संचित धन हानि कराएगा, दुखी रहेगे।  परायी स्त्री के  प्रति अनुराग से बचें। 

पत्नी के सुंदर विचारों का अनुपालन करने से ख्याति मिलेगी, धीरज भाव युक्त कार्य करे , सुख मिलेगा।  प्रसिद्धि पर अभिमान से बचें।