रायपुर। बिलासपुर से नागपुर के बीच 160 किमी की रफ्तार से ट्रेन चलाई जानी है। इस हाई स्पीड ट्रेन के लिए रायपुर रेलवे मंडल अंतर्गत दुर्ग में पटरी किनारे बाउंड्रीवाल बनाने का काम तथा ट्रेन को एक पटरी से दूसरे पटरी पर ले जाने का काम करने वाले थीक वेब स्वीच को बदलने का काम शुरू हो गया है।

इसके अलावा ट्रैक का दुरूस्तीकरण भी किया जा रहा है। इसके बाद रेलवे प्रशासन बेलास्ट कोशन (ट्रैक किनारे लगने वाला पत्थर) ओएचई तार और सिग्नल को अपडेट करने का काम शुरू करेगा। वर्ष 2021 तक लाइन को अपडेट कर 160 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से ट्रेन दौड़ाई जाएगी। हाई स्पीड ट्रेन शुरू होने से बिलासपुर और नागपुर का सफर यात्रियों के लिए आसान होगा। रेलवे के अधिकारी का कहना है कि हाई स्पीड ट्रेन चलाने के लिए काम शुरू कर दिया गया है।
ज्ञात हो कि रेलवे बोर्ड ने नागपुर से बिलासपुर के बीच 411 किमी तक हाईस्पीड ट्रेन चलाने के लिए मंजूरी दी है। इसके लिए रेलवे प्रशासन ने पटरियों के मेंटेनेंस का काम शुरू कर दिया है। पटरियों के किनारे को फैंसिंग और बेरिकेटिंग से घेरा जाएगा ताकि ट्रेनें बिना व्यवधान के पूरी रफ्तार से चल सकें।

बंद होगा रेलवे क्रासिंग
रेलवे के अधिकारी ने बताया कि नागपुर-बिलासपुर हाईस्पीड ट्रेन चलाने के लिए सभी रेलवे क्रासिंग की जगह अंडरब्रिज और ओवरब्रिज का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है। वर्तमान में रायपुर से राजनांदगांव के बीच अब तक 14 रेलवे क्रासिंग को बंद करने के लिए अंडरब्रिज-ओवरब्रिज का काम भी शुरू किया जा चुका है।

बेलास्ट कोशन बदलना रेलवे के लिए चुनौती
वर्तमान में पटरी और स्लीपर पर 160 की स्पीड की रफ्तार से ट्रेन चलाई जा सकती है। लेकिन रेल लाइन के नीचे बिछाए गए 300 एमएम के बेलास्ट कोशन को बदलना पड़ेगा। इसकी जगह पर 350 एमएम के बेलास्ट कोशन लगाना पड़ेगा। बेलास्ट कोशन को बदलने में समय लगेगा। इसके साथ ही सिग्नल को भी अपग्रेट करना पड़ेगा। रेलवे सूत्रों की माने तो मंडल को जिस काम के लिए पैसे की स्वीकृति हो रही है उस कार्य को ही किया जा रहा है।

यात्रियों का सफर होगा आसान
वर्तमान में रायपुर रेलवे मंडल से चलने वाली ट्रेनें 110 की स्पीड से चल रही हैं। लेकिन हाई स्पीड ट्रेनों के शुरू होने से बिलासपुर से नागपुर तक का सफर सिर्फ 3 घंटे में पूरा हो जाएगा। वहीं रायपुर से बिलासपुर एक घंटे और रायपुर से दुर्ग महज 20 मिनट में यात्री पहु्‌ंच सकेंगे।

इनका कहना है
हाई स्पीड ट्रेन के लिए दुर्ग में बाउंड्रीवाल का काम शुरू कर दिया गया है। इसके साथ वेब स्वीच को भी बदलने का काम शुरू कर दिया गया है। वर्ष 2021 तक हाई स्पीड ट्रेन दौड़ने लगेगी।

कौशल किशोर, डीआरएम रायपुर रेलवे मंडल