नई दिल्ली: एचडीएफसी बैंक ने मंगलवार को विभिन्न अवधि की सावधि जमा योजनाओं पर ब्याज दरों में 0.5 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी की घोषणा की. वहीं सरकारी बैंक बैंक आफ बड़ौदा ने अपनी कर्ज की विभिन्न अवधि की ब्याज दर में 0.10 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी की. एचडीएफसी बैंक ने बयान जारी कर कहा कि विभिन्न अवधि की एक करोड़ रुपये तक की जमा राशि पर नई ब्याज दरें मंगलवार से प्रभावी हो गई हैं. 

पांच से आठ साल और आठ से दस साल की अवधि वाली जमा राशियों पर ब्याज दर को छह से बढ़ाकर साढ़े छह फीसदी कर दिया गया है. तीन से पांच वर्ष की जमा राशि पर ब्याज को 7.1 फीसदी से बढ़ाकर 7.25 प्रतिशत कर दिया गया है. एक साल की सावधि जमा पर ब्याज दर को 7.25 फीसदी से बढ़ाकर 7.3 प्रतिशत किया गया है. 

सरकारी स्वामित्व वाले बीओबी द्वारा दी गई सूचना के मुताबिक, एक साल के कर्ज पर सीमांत लागत आधारित ब्याज दर (एमसीएलआर) अब 8.65 प्रतिशत होगी. यह दर मौजूदा बाजार परिदृश्य को देखते हुये काफी प्रतिस्पर्धी दर है. अन्य अवधि के कर्ज में एक दिन के लिये यह दर 8.15 प्रतिशत, एक माह के लिये 8.20 प्रतिशत, तीन माह के लिये 8.30 प्रतिशत और छह माह के कर्ज पर 8.50 प्रतिशत की ब्याज दर तय की गई है. बैंक ने कहा है कि नई ब्याज दर सात नवंबर, 2018 से प्रभावी होगी. 


बैंक आफ बड़ौदा ने कहा है कि अपने बेहतर रेटिंग वाले आवास रिण लेने वाले ग्राहकों के लिये एमसीएलआर में कोई अतिरिक्त मार्क-अप नहीं जोड़ा जाता है. बैंक आफ बड़ौदा अपने ग्राहकों की जरूरत पर ध्यान देता है और उसकी ब्याज दरें समूचे बैंकिंग उद्योग में अति प्रतिस्पर्धी हैं. बेहतर रेटिंग वाले अपने ग्राहकों को बैंक एक साल के लिये एमसीएलआर को 8.65 प्रतिशत पर देता है. यह दर कितनी भी राशि के आवास रिण पर लागू होगी और 30 साल की अवधि तक के लिये भी यही दर होगी.