कार्तिक मास की शुभ अमावस्या के दिन दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है। इस वर्ष शुभ संवत्सर 2075 कृष्ण पक्ष अमावस्या बुधवार - स्वाति - नक्षत्र –  तुला राशि में सूर्य और चन्द्र ग्रह अवस्थित रहेंगे । दीपावली शुभ है 

​शुभ दीपावली लक्ष्मी के दुर्लभ वास  -------------

01 पैरों में लक्ष्मी का वास हो तो --कृषि योग्य भूमि ,घर -भवन , प्रदान करें।

02 सक्थिनी अस्थि में लक्ष्मी का हो वास--नाना-प्रकार के सुंदर वस्त्र एवं रत्नों की प्राप्ति होती है।

03 गुह्यस्थान में लक्ष्मी का हो वास-----सुंदर मनोहारी स्त्री मिलती है।

04 गोदी में  लक्ष्मी का वास हो-- कुल दीपक पुत्र  की प्राप्ति होती है।

05 ह्रदय में लक्ष्मी का हो वास--सभी मनोरथ पूर्ण होते है।

06 कंठ में लक्ष्मी का हो  वास --गले के आभूषण , प्रवासी बंधू सहित, स्त्री सहित समागम की प्राप्ति होती है। 

07 मुख में लक्ष्मी का हो वास--लावण्यता ,सुंदर वाक्य,सफल आज्ञा ,कवित्व,लाभ मिलता है।

08 मस्तक में लक्ष्मी का हो वास-- जातक का परित्याग, दरिद्रता प्राप्त होती है।
-----------
 दीपावली में करें षट्पूजन  का विशेष महत्त्व -

 01- श्री यन्त्र यन्त्र का पूजन। 
                                     02- कनकधारा यन्त्र का पूजन  । 
                                    03 - कलम -दवात का पूजन।
                                    04 - तुला (तराजू ) का पूजन।
                                    05 - बही-खता पूजन।
                                    06 - कुबेर का पूजन। 
07 - उलूक पूजन 
--------------
पूजन के शुभ मुहूर्त लक्ष्मी जी का आव्हान

 एवं  पूजन स्थिर लग्न  मे
 -01 लाभ-अमृत चौघड़िया में  - समय-प्रातः 06:00​ से 09:00​ दोपहर तक । ​

​​02 - कुम्भ लग्न :-समय  दोपहर   -  01:2​0  से  02 :53 ​ तक |​

03 - चर -अमृत--
 03:00 से 04:30 तक दोपहर

04 - व्यवसायिक संस्थानों के लिए 
सायंकाल 04:30 से 06:00 तक


05 -सायंकाल  - वृष  लग्न    :-   समय  -​सायंकाल  - 06: 05  से 08:013 ​ तक |​

06 - शुभ-अमृत-चर - क्रमशः 07 :30 सायं. से 12:00 रात्रि

06 -  सिंह लग्न  :-समय : -  

रात    - 11:33 से 02:44  तक |​