जब बात मूड बनाकर एक अच्छा सेक्स सेशन क्रिएट करने की हो तो उसमें मैजिक लाने के लिए आपको कई चीजों की जरूरत होती है। रूम की लाइटिंग से लेकर खुशबूदार फूल और एग्जॉटिक ड्रिंक्स से लेकर सेन्शुअस म्यूजिक तक... ये सारी चीजें मिलकर ही किसी रात तो यादगार बनाती हैं। लेकिन इनमें से एक चीज है जिस पर हमारा ध्यान कभी नहीं जाता है और वह बेड मैट्रेस। 

 

बेड और मैट्रेस होना चाहिए कंफर्टेबल 
जरा सोचिए, कि आपने अपनी बेस्ट रात के लिए सारी तैयारियां कर रखी हैं और वह रात बस शुरू ही होने वाली है लेकिन आपने रात बिताने के लिए जो बेड चुना है वह बिल्कुल भी कंफर्टेबल नहीं है तो क्या होगा। बेड को कंफर्टेबल बनाने में सबसे अहम योगदार मैट्रेस यानी गद्दे का होता है। बात चैन की नींद की हो या फिर हॉट-सेक्सी नाइट की सही मैट्रेस चुनते वक्त इन बातों का रखें ध्यान... 

अच्छे बाउंस के लिए इनरस्प्रिंग 
इनरस्प्रिंग वाले मैट्रेस में 3 लेयर होती है- फाउंडेशन, कोर और कंफर्ट लेयर। फाउंडेशन कोर में लगे कॉइल्स को बेस प्रदान करता है। चूंकि कॉइल्स पर सोना असुविधाजनक होगा लिहाजा कोर के ऊपर एक कंफर्टेबल लेयर होती है जो फाइबर या फोम से बनी होती है। इनरस्प्रिंग वाले मैट्रेस शरीर के बॉडी वेट से अजस्ट होकर आपको कंफर्टेबल पॉस्चर प्रदान करते हैं। बीच में लगे स्प्रिंग कॉइल बाउंस प्रोवाइड करते हैं जिससे मूवमेंट बढ़ती है। 

नई सेक्स पोजिशन कर सकते हैं ट्राई 
लैटेक्स, नैचरल इलास्टिक है जो किसी मैट्रेस को परफेक्ट बनाता है क्योंकि यह आपकी बॉडी का शेप ले लेता है जिसकी वजह है आप जितनी देर उस पर लेटे रहते हैं आपको आराम महसूस होता है। नई सेक्स पोजिशन्स ट्राई करने के लिए लैटेक्स वाले मैट्रेस को बेस्ट माना जाता है क्योंकि यह आपके बॉडी शेप के हिसाब से खुद को अडैप्ट कर लेते हैं। साथ ही यह आपके स्पाइनल कॉर्ड को नैचरल पोजिशन में रखता है जिससे सोने के दौरान ब्लड सर्क्युलेशन हेल्दी बना रहता है। 

किनारों का भी रखें ध्यान 
जब भी आप मैट्रेस खरीदने के बारे में सोचें तो आपको उसके एज यानी किनारों का भी ध्यान रखना चाहिए। खराब एजेस का मतलब होगा कि सेक्स के दौरान आपको मुश्किल आ सकती हैं। इंटिमेट मोमेंट में जब आप दोनों पैशन के साथ सेक्स कर रहे होंगे और आपको मजबूत ग्रिप की जरूरत होगी उस वक्त ये किनारे काम आते हैं लेकिन अगर मैट्रेस के किनारे सही नहीं हैं तो आप स्लिप हो सकते हैं।