किसी भी वैवाहिक संबंध का सेक्स एक अनिवार्य हिस्सा है। लेकिन, कई बार कुछ सालों के वैवाहिक जीवन में सेक्स के प्रति लोगों की रुचि कुछ कम हो जाती है। ऐसे में पॉर्न देखकर कई लोग इसके प्रति उत्साह बनाए रखने का प्रयास करते हैं। हालांकि इसके भी कुछ फायदे हैं तो कई नुकसान भी हैं। जानें, पॉर्न देखने से आप पर हो सकते हैं क्या नकारात्मक असर...

नुकसान 
- पॉर्न देखने पर गिल्ट फील होने या फिर पॉर्नोग्रफी को लेकर संदेह करने से वैवाहिक जीवन पर असर पड़ सकता है। 

- पॉर्नोग्रफी देखने से आपके पार्टनर का रियल रिलेशनशिप से मन ऊब सकता है क्योंकि उनको पॉर्न में ही क्षणिक सुख मिलने की स्थिति आ सकती है। 

- यदि आपका पति या पत्नी पॉर्न देख रहे हों तो आपके मन में असम्मान की भावना आ सकती है। कुछ लोग ऐसी स्थिति में खुद को असुरक्षित महसूस करने लगते हैं और सोचते हैं कि शायद वह अपने पार्टनर के लिए अच्छे नहीं हैं। इससे शादी में एक बाधा पैदा हो सकती है। 

- पॉर्नोग्रफी अधिक देखने के चलते किसी एक पार्टनर के साथ यह समस्या भी आ सकती है कि वह सेक्स को संबंध के एक प्यार भरे माध्यम के तौर पर न देखे। इससे यौन संतुष्टि का स्तरलभी कम हो सकता है। 

क्या हैं फायदे
- पॉर्न देखने का यह अर्थ नहीं है कि पार्टनर आपके साथ सेक्स को इंजॉय नहीं करता। 

- पॉर्न के चलते यदि आपकी कल्पना बढ़ती है तो उससे आपका सेक्सुअल रिलेशनशिप का स्तर बढ़ सकता है। 

- यौन संबंधों को पॉर्न के साथ रिप्लेस नहीं किया जा सकता। इस मीडियम को शादी संबंध के आड़े नहीं आने दिया जा सकता। 

- यदि आपका पार्टनर पॉर्न देखता है तो आप तभी हर्ट हो सकते हैं, जबकि आप ऐसा चाहें। यदि आप खुद को असुरक्षित महसूस नहीं करते तो फिर पार्टनर के पॉर्न देखने से आपको कोई परेशान नहीं होगी।