नागपुर। नागपुर में इंजीनियरिग के एक छात्र ने रविवार देर रात आत्महत्या कर ली। पत्र में कहा है कि उसने दो माह पहले एक दुर्घटना में जिस बच्चे को मरते देखा था उसकी आत्मा उसे लगातार परेशान कर रही थी। जांच अधिकारी तुलसीराम धकुलकर ने बताया कि सौरभ नागपुरकर बीपी कॉलेज में इंजीनियरिग का छात्र था।

सौरभ ने अपने सुसाइड नोट में लिखा कि करीब दो महीने पहले उसने उमरेड रोड पर हुए हादसे में एक बच्चे की मौत देखी थी। उस दिन के बाद से उस बच्चे की आत्मा मुझे लगातार डरा रही थी और बुला रही थी।
पुलिस ने बताया कि सौरभ ने आगे लिखा कि उस घटना के बाद से ही उसे अजीब-अजीब आवाजें और चीजें दिखाई दे रही हैं। इस मामले में पुलिस सौरभ के मोबाइल, लैपटॉप की जांच कर रही है। इसके अलावा वह कौन सी फिल्में और वीडियो गेम खेलना पसंद करता था। इसकी भी जांच की जा रही है।

धकुलकर ने बताया कि सौरभ के दोस्तों से भी इस बारे में बात की जा रही है। जिससे पता चले कि आखिर सौरभ को हुआ क्या था। वहीं, परिवार की ओर से मामले में किसी पर शक नहीं जताया है। सौरभ ने नोट में परिवार से माफी मांगी है और अपनी बड़ी बहन से अनुरोध किया है कि वह उसके बाद सबका खयाल रखे।
पुलिस ने बताया कि एक दिन पहले ही सौरभ ने अपना जन्मदिन बहुत अच्छे ढंग से मनाया था। इस दौरान वह अपने करीब 15 दोस्तों के साथ एक अनाथालय में गया था। वहीं, एक दिन बाद उसका आत्महत्या करना बहुत अजीब है।