नई दिल्ली: हेमा मालिनी आज यानी 16 अक्टूबर को अपना 70वां बर्थडे सलिब्रेट कर रही हैं. तमिलनाडु के अम्मनकुड़ी में जन्मीं हेमा की गिनती बॉलीवुड की उन गिनी-चुनी अदाकाराओं में होती है जो अपनी बढ़ती उम्र में भी एकदम फिट बनी हुई हैं. उत्तर प्रदेश के मथुरा से बीजेपी की सांसद हेमा एक्टिंग के अलावा कत्थक और भरतनाट्यम डांस के लिए भी पहचानी जाती हैं. जानते हैं कि आखिर इस उम्र में उनके चुस्त-तंदुरुस्त रहने की पीछे क्या वजह है ?

हेमा मालिनी अपने दिन की शुरुआत गुनगुना (हल्का गर्म) पानी पीकर करती हैं. इस पानी में शहद और नींबू का रस भी मिलाती हैं. दिन में भी वो दो बार ऐसा ही पानी पीती हैं, जो कि उन्हें दिनभर एनर्जी देता है. खास बात यह है कि उन्होंने पिछले कई साल से शक्कर खाना छोड़ दी है.

उनके देश-विदेश के दौरों पर जाने के पहले ही होटल या गेस्ट हाउस के रसोइयों को बता दिया जाता है कि किसी भी मीठे पकवान में शक्कर के बजाए शहद डाला जाए.
नई दिल्ली: हेमा मालिनी आज यानी 16 अक्टूबर को अपना 70वां बर्थडे सलिब्रेट कर रही हैं. तमिलनाडु के अम्मनकुड़ी में जन्मीं हेमा की गिनती बॉलीवुड की उन गिनी-चुनी अदाकाराओं में होती है जो अपनी बढ़ती उम्र में भी एकदम फिट बनी हुई हैं. उत्तर प्रदेश के मथुरा से बीजेपी की सांसद हेमा एक्टिंग के अलावा कत्थक और भरतनाट्यम डांस के लिए भी पहचानी जाती हैं. जानते हैं कि आखिर इस उम्र में उनके चुस्त-तंदुरुस्त रहने की पीछे क्या वजह है ?

हेमा मालिनी अपने दिन की शुरुआत गुनगुना (हल्का गर्म) पानी पीकर करती हैं. इस पानी में शहद और नींबू का रस भी मिलाती हैं. दिन में भी वो दो बार ऐसा ही पानी पीती हैं, जो कि उन्हें दिनभर एनर्जी देता है. खास बात यह है कि उन्होंने पिछले कई साल से शक्कर खाना छोड़ दी है.

उनके देश-विदेश के दौरों पर जाने के पहले ही होटल या गेस्ट हाउस के रसोइयों को बता दिया जाता है कि किसी भी मीठे पकवान में शक्कर के बजाए शहद डाला जाए.

पति धर्मेंद्र के साथ हेमा मालिनी. (Photo: Twitter)

हेमा मालिनी ने तमिल फिल्म 'इधु साथियम' (1963) से बतौर डांसर अपने करियर की शुरुआत की थी. इसके बाद उन्हें तेलुगू फिल्म 'पांडवा वनवासम' (1965) में भी डांसर का रोल मिला था. इसके बाद 1968 में आई हिंदी फिल्म 'सपनों का सौदागर' से उनका बॉलीवुड डेब्यू हुआ था. बॉलीवुड अदाकारा हेमा मालिनी आखिरी बार 'एक थी रानी ऐसी' फिल्म में नजर आई थीं. यह फिल्म पूर्व राजमाता विजयाराजे सिंधिया के जीवन पर आधारित है.

अटल बिहारी वाजपेयी भी फैन थे
भारतीय जनता पार्टी की सांसद हेमा मालिनी ने पिछले साल मथुरा में एक कार्यक्रम के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़ा ये राज खोला था. हेमा मालिनी ने बताया कि अटल बिहारी वाजपेयी को उनकी एक फिल्म इतनी ज्यादा पसंद आयी कि उन्होंने 25 बार देखी थी. यह फिल्म 1972 में आई 'सीता और गीता' थी.

हेमा मालिनी को सामने देख कुछ बोल नहीं पाए थे वाजपेयी
हेमा मालिनी ने इसी दौरान इस पूरे किस्से का जिक्र करते हुए बताया था कि मुझे याद है कि एक बार मैंने पदाधिकारियों से कहा कि मैं भाषणों में अटल बिहारी वाजपेयी का जिक्र करती हूं. लेकिन उनसे कभी मिली नहीं, मिलवाइए, तब वो मुझे उनसे मिलाने ले गए. लेकिन मैंने महसूस किया कि अटल बिहारी वाजपेयी बात करने में कुछ हिचकिचा रहे हैं. इस पर मैंने वहां मौजूद एक महिला से पूछा कि क्या बात है. अटल जी, ठीक से बात क्यों नहीं कर रहे. उन्होंने बताया कि असल में ये आपके बहुत बड़े प्रशंसक रहे हैं. इन्होंने 1972 में आई आपकी फिल्म 'सीता और गीता' 25 बार देखी थी. इसलिये वह अचानक आपको सामने पाकर हिचकिचा रहे हैं.

1972 में आई हेमा मालिनी की फिल्म 'सीता और गीता' में हेमा ने डबल रोल प्ले किया था. फिल्म का निर्देशन रमेश सिप्पी ने किया था और इस फिल्म में हेमा के अलावा धर्मेंद्र और संजीव कुमार की भी अहम भूमिका थी. फिल्म के लेखक सलीम-जावेद थे. इस फिल्म के लिए हेमा मालिनी को फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार भी मिला था.