भोपाल: मध्‍य प्रदेश में समाजवादी पार्टी को बड़ा झटका देते अर्जुन आर्य कांग्रेस में शामिल हो गए हैं. कल शनिवार को अर्जुन अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय में पहुंचे और कमलनाथ की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ली. समाजवादी पार्टी ने उन्हें बुधनी मे प्रत्याशी बनाया था लेकिन उन्होंने टिकट लेने से इनकार कर दिया था और कहा कि कांग्रेस अगर टिकट देगी तो वो उसी सीट से चुनाव लड़ेंगे. गौरतलब है कि बुधनी सीट शिवराज सिंह की परंपरागत सीट है. 

सपा ने पिछले हफ्ते मध्यप्रदेश में छह उम्मीदवारों के पहली सूची जारी की थी लेकिन बुधनी से सपा के उम्मीदवार अर्जुन आर्य ने सपा का टिकट वापस कर दिया था. इस मामले पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने नाराजगी भी जाहिर की थी. कांग्रेस में शामिल होने के बाद अर्जुन आर्य ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चुनौती दी. उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस यदि उन्हें बुधनी से टिकट देगी तो वो शिवराज को हरा सकते हैं.

बीजेपी में शामिल होने के बाद आर्य ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि हम इस प्रदेश की जनता और मां नर्मदा को बीजेपी की भ्रष्टाचारी सरकार से मुक्ति दिलाएंगे. बुधनी सीट के टिकट के सवाल पर उन्होंने कहा, "मैं समझता हूं कि कांग्रेस पार्टी जो कहेगी, वह मैं करूंगा. इस अत्याचारी सरकार को उखाड़ फेंकने में योगदान दूंगा. टिकट का कोई मुद्दा नहीं है. मैं समझता हूं कि अच्छाई और सच्चाई के लिए हम लड़ते हैं, पार्टी मुझे टिकट दे या किसी को दे, मैं पूरा समर्थन करूंगा."  

सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव के करीबी रहे आर्या दिल्ली विश्वविद्यालय से संस्कृत में ग्रेजुएट हैं. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सीट बुधनी में एक के बाद एक किसान आंदोलन छेड़ने के कारण वह चर्चा में आए. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने 18 सितंबर को भोपाल सेंट्रल में आर्या से मुलाकात की थी. 

आर्य के मुताबिक, "मैंने सितंबर को शिवराज सरकार के खिलाफ अनशन आंदोलन किया था. इस पर सरकार ने दमनपूर्ण कार्रवाई करते हुए मुझे आंदोलन से उठाकर जेल में बंद कर दिया, वहां भोपाल जेल में 18 सितम्बर को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्वियज सिंह से मेरी मुलाकात हुई . इसके बाद मैंने प्रदेश से बीजेपी की सत्ता का उखाड़ने के लिये सशक्त विकल्प के तौर पर कांग्रेस पार्टी का समर्थन करने का मन बनाया." 

आर्या बुधनी क्षेत्र के हमीदगंज तोमरी गांव से ताल्लुक रखते हैं और किसान परिवार से जुड़े हैं. 

आर्या बुधनी क्षेत्र के हमीदगंज तोमरी गांव से ताल्लुक रखते हैं और किसान परिवार से जुड़े हैं. अखिलेश यादव के बारे में उन्होंने कहा, "अखिलेश मेरे पारिवारिक दोस्त हैं. मैंने 2008 और 2013 का चुनाव सपा के टिकट पर खातेगांव सीट से लड़ा. वह मेरे पक्ष में चुनाव करने के लिए पहली बार मध्य प्रदेश आए थे और बाद में जब वह सीएम बने तब आए. 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के बारे में उन्होंने कहा, "शिवराज सिंह चौहान मेरे गांव के निकट बसे जैत गांव से हैं. मेरे पिता उनके 20 एकड़ खेत में सोयाबीन उगात थे." 2007 में आर्या ने बुधनी में पहली बार जन चेतना यात्रा निकाली थी जब शिवराज सिंह चौहान को सीएम की कुर्सी संभाले हुए दो साल का ही वक्त हुआ था.