नवरात्र का पर्व मां दुर्गा के नौ रूपों की आराधना के लिए मनाया जाता है। हिंदू धर्म में इसका बहुत महत्व है इसलिए इस दौरान प्याज-लहसुन न खाने जैसे बहुत से नियमों का पालन किया जाता है। इतना ही नहीं, इस दौराना पति-पत्नी का एक-दूसरे के करीब आना भी वर्जित माना जाता है। इसके पीछे सिर्फ धार्मिक ही नहीं बल्कि साइंटिफिक कारण भी है और आज हम आपको इसी के बारे में बताने जा रहे हैं। चलिए जानते हैं नवरात्र के दौरान पति-पत्नी को क्यों नहीं आना चाहिए एक दूसरे के करीब।

 

1. साधना नहीं मानी जाती पूरी
ऐसा माना जाता है कि इस दौरान संबंध बनाने के मन विचलित रहता है, जिसके कारण पति-पत्नी का मन पूजा में नहीं लगता है। ऐसे में मां की पूजा भी अधूरी समझी जाती है।

 

2. शरीर में होती है ऊर्जी की कमी
नवरात्र व्रत रखने वाले लोगों में ऊर्जा की कमी होती है। इसकी वजह से शरीर मानसिक और शारीरिक तौर पर संबंध बनाने के लिए तैयार नहीं होता। यही कारण है इस दौरान डॉक्टर्स भी इस दौरान संयम रखने के लिए कहते हैं।

 

3. संक्रमण का खतरा
नवरात्र के दौरान समय मौसम में बदलाव होता है। यही वो मौसम होता है जब सबसे ज्यादा संक्रमण होने का खतरा बना रहता है इसलिए इस दौरान यौनाचरण से भी बचने कि लिए कहा जाता है।

 

4. ब्रह्म्चर्य का पालन
माना जाता है कि माता का अंश हर स्त्री में मौजूद होता है। यही वजह है कि इस समय सुहागन महिलाओं को सुहाग सामग्री देने की भी परंपरा है इसलिए नवरात्र में पति-पत्नी को खुद पर संयम और ब्रह्म्चर्य का पालन करने के लिए कहा जाता है।