वेडिंग नाइट, यानी शादी के बाद की पहली रात। शादीशुदा कपल्स के मन में अक्सर अपनी पहली रात को लेकर काफी इच्छाएं और सपने होते हैं। आमतौर पर लोग फर्स्ट नाइट को सिर्फ फिजिकल रिलेशन से जोड़कर देखते हैं और अगर आप भी यही सोचते हैं, तो फिर ज़रा सावधान हो जाएं क्योंकि आज हम आपको कुछ ऐसी चीजें बताने जा रहे हैं, जिनकी आपको कम से फर्स्ट नाइट पर तो बिल्कुल भी उम्मीद नहीं करनी चाहिए: 
 

फिजिकल रिलेशन की उम्मीद 
अगर ऐसा ख्याल है तो इसे दिमाग से निकाल दें क्योंकि शादी की अन्य रस्मों-रिवाजों के चलते आप शादीशुदा कपल्स काफी बिज़ी रहते हैं और उन्हें थकान भी होने लगती है। ऐसे में किसी भी तरह के फिजिकल रिलेशन की उम्मीद लगाना बेकार है। 

ऑर्गेज्म एक्सपीरियंस 
कपल्स को एक-दूसरे की पसंद-नापसंद को समझना चाहिए और यह देखना चाहिए कि वे किस चीज को ज्यादा तरजीह देते हैं। एक-दूसरे को समझने के लिए वक्त लें और किसी भी चीज़ के लिए जल्दबाज़ी न करें। इन बातों को नोट करें कि कब और किस अवस्था में आपका पार्टनर टर्न-ऑन होता है और तब ऑर्गेज्म के पॉइंट तक पहुंचें। 


ऑर्गेंज्म का दिखावा 
इसे तो आप हरगिज न करें। चूंकि यह आपके नए सफर की शुरुआत है, इसलिए किसी भी तरह का दिखावा, फिर चाहे वह इमोशन्स का ही दिखावा क्यों न हो, बिल्कुल भी न करें। रोमांटिक रहें और चाहे तो अपनी सेक्शुअल पसंद-नापसंद को लेकर बात कर सकते हैं। 

सेक्स के बारे में बातें 
शादी के बाद की पहली रात एक आइसब्रेकर होती यानी यह वह रात होती है जब कपल्स एक-दूसरे को अच्छी-तरह से जान और पहचान सकें। इसलिए अगर वे उस रात सेक्स को लेकर बातें भी न कर पाएं तो कोई बात नहीं। सेक्स के अलावा अन्य चीजों पर बात करें। एक-दूसरे की पसंद और आदतों के बारे में जानने की कोशिश करें। एक-दूसरे के साथ कुछ अंतरंग पल बिताएं। 

पहले मेल पार्टनर करे शुरुआत 
आम धारणा यह होती है कि किसी भी चीज की शुरुआत पुरुष पहले करें। फिर चाहे वह सेक्स को लेकर ही क्यों न हो। लेकिन यह भी तो हो सकता है कि पुरुष पार्टनर एक्सपेक्ट कर रहा हो कि उसकी पार्टनर शुरुआत करे। इसलिए ओपन रहें और खुलकर बात करें।