इंदौर। गिरफ्तारी से बचने के लिए भाग रहा वारंटी टिगरिया बादशाह स्थित तालाब में कूद गया। पीछा कर रहे पुलिसकर्मियों ने तालाब के किनारे बैठे मजदूर को वारंटी को पकड़ने के लिए तालाब में उतार दिया। गहरे पानी में मजदूर डूब गया तो दोनों पुलिसकर्मी वारंटी को लेकर मौके से भाग निकले।
मौके पर मौजूद एक व्यक्ति ने मजदूर को डूबते देखा तो उसके परिजन को सूचना दी। काफी देर तलाश के बाद भी उसका पता नहीं चला, तो परिजन और क्षेत्रवासियों ने हंगामा शुरू कर दिया। विवाद बढ़ता देख क्षेत्र में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया।
घटना बाणगंगा थाना क्षेत्र स्थित टिगरिया बादशाह की है। पुलिस की टीम फरार वारंटियों की तलाश कर रही थी। शुक्रवार शाम करीब 5 बजे सिपाही विकास भदौरिया और सुरेश गामड़े को सूचना मिली कि आरोपित रवि उर्फ बारीक और जितेंद्र चौहान टिगरिया क्षेत्र में छिपे हुए हैं। सिपाही वहां पहुंचे तो उन्हें देख आरोपित भागने लगे।
पुलिस ने जितेंद्र को पकड़ लिया, लेकिन रवि तलाब में कूद गया। इस बीच मजदूरी कर लौट रहे क्षेत्र में रहने वाले माणक बामनिया (43) को सिपाहियों ने रवि को पकड़ने के लिए कहा और तालाब में उतार दिया। माणक को तैरना नहीं आता था। पुलिसकर्मियों ने दबाव बनाया तो वह गहरे पानी में चला गया और डूब गया।


पुलिस वालों ने मुलजिम को पकड़ लिया, उसे डूबता छोड़ गए
जस मुलजिम को पकड़ने के लिए पुलिस ने माणक को तालाब में उतारा था, वह तो तैरकर दूसरी तरफ निकल गया। पुलिस वालों ने रवि को पकड़ा और लेकर चले गए, लेकिन माणक डूब गया। मैंने तुरंत माणक के भाई किशोर को फोन किया। वह मौके पर पहुंचा। तब तक दूसरे पुलिस वाले आ गए थे। करीब एक घंटे बाद सर्चिंग शुरू की गई। पुलिस ने ही माणक को रवि के पीछे तालाब में जाने के लिए कहा था। 


शराब तस्करों से वसूली का आरोप, सीएसपी को घेरा
माणक बामनिया की बहू कविता और बहन इंदिरा का आरोप है कि इलाके में जगह-जगह अवैध शराब बिकती है। पुलिसवाले उनसे वसूली करने आते हैं। शराब तस्करों पर कार्रवाई नहीं करते, जबकि पीने वालों की जेब से रुपए निकाल लेते हैं। घटना के बाद मौके पर पहुंचे सीएसपी हरीश मोटवानी को लोगों ने घेर लिया। उन्हें जमकर खरीखोटी सुनाई।
विवाद की सूचना पर अफसर पहुंचे और आठ थानों का बल तैनात करना पड़ा। माणक घनश्यामसिंह ठाकुर के खेत पर काम करता था। उसके परिवार में पत्नी और दो बेटे गोपाल और संजय हैं। इधर, 6 घंटे बाद भी माणक का पता नहीं चल सका। रात 11.45 बजे तक पुलिस, फायर बिग्रेड और क्षेत्रवासी उसे तलाश रहे थे।


वह खुद ही तालाब में चला गया
पुलिस ने जितेंद्र और रवि को पकड़ लिया था। उनके साथ अजय नामक युवक भी था। उसे भी पकड़ा था। रवि को पानी में भागता देख माणक खुद ही तालाब में उतर गया। मौके से उसकी पैंट और जूते मिले हैं। पुलिस ने उसे तालाब में कूदने के लिए नहीं कहा था। 
- प्रशांत चौबे, एएसपी