नई दिल्ली : हार्दिक पांड्या ने पिछले एक साल में तेजी से भारतीय क्रिकेट में जगह बनाई है. गुरूवार को हार्दिक अपना 25वां जन्मदिन मना रहे हैं.  हमेशा ही चर्चा में रहे हार्दिक ने पहले टी20 और फिर वनडे टीम में तो जगह बनाई ही, उसके बाद उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में भी अपना प्रभाव छोड़ा. हालाकि इस बात पर खासी बहस हो सकती है कि हार्दिक ने उम्मीदों के मुताबिक कितना प्रदर्शन किया, लेकिन आज आलम यह है कि टीम इंडिया के चयनकर्ताओं के लिए हार्दिक को यूं ही खारिज करना आसान नहीं है. यह अपने आप में हार्दिक के लिए खासी उपलब्धि है. आज टीम इंडिया में तेज गेंदहाज ऑलराउंडर की बात होती है तब हार्दिक ही भारत में नंबर वन ठहरते हैं. 

शुरुआत में जब हार्दिक टीम इंडिया में आए थे तब उन्होंने लंबे छक्के लगाने, मौके पर विकेट निकालने और मैच फिनिशर की अपनी भूमिका बखूबी निभाई. बड़ौदा के इस ऑल राउंडर ने घरेलू क्रिकेट, आईपीएल और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन किया. ऐसा लगा भी कि पांड्या जैसे आॉल राउंडर को पाकर टीम इंडिया की सालों की ऑल राउंडर की खोज अब जाकर पूरी हो गई. कई बार उनकी तुलना कपिल देव से भी हुई लेकिन निरतंरता कमी ने इस खिलाड़ी से वे श्रेय भी छीन लिए जिसका वह हकदार रहा. 

मिला जुला रहा इस साल हार्दिक का प्रदर्शन
इस साल के हार्दिक के क्रिकेटीय जीवन में कई उतार चढ़ाव रहे. पहले टेस्ट की बात करें तो इस साल हार्दिक ने 8 टेस्ट मैच खेले जिसमें बल्लेबाजी में  15 पारीयों में हार्दिक के 25.28 के साथ 354 रन है जिसमें उनका उच्चतम स्कोर 93 रन है. वहीं गेंदबाजी में हार्दिक के नाम 14 पारियों में 33.30 की औसत और 3.48 की इकोनॉमी से कुल 13 विकेट हैं जिसमें से एक बार इंग्लैंड में उनके नाम पांच विकेट लेने का रिकॉर्ड भी हैं. हार्दिक ने पिछले एक साल में 10 मैचों में 6 पारियों में बल्लेबाजी की और उनमें 13.60 की औसत, 87.17 के स्ट्राइक रेट के साथ कुल 68 रन बनाए जिसमें उच्चतम 21 रन था.

वनडे गेंदबाजी में भी 10 मैचों में 79.19 की औसत से 5 विकेट लिए हैं जिनमें उनकी इकोनॉमी 5.55 रही. टी20 में 8 मैचों में 6 पारियां खेल 201.72 की स्ट्राइक रेट से कुल 117 रन बनाए हैं, जिसमें 33 नाबाद सर्वाधिक है.  गेंदबाजी में 8 मैचों में 24.29 के औसत और 8.10 की इकोनॉमी से 10 विकेट लिए हैं. इस तरह देखा जाए तो हार्दिक टी20 में तो बेहरतीन रहे, लेकिन वनडे में उन्होंने निराश ही किया. वहीं टेस्ट मैच में उनका प्रदर्शन मिला जुला ही रहा यानि कभी वे बहुत प्रभावी दिखे कहीं उम्मीद से कम. 

ये रहा खास विवाद हार्दिक के साथ 
वैसे तो हार्दिक के साथ कई विवाद इस साल भी रहे जिनमें उनकी हेयरस्टाइल, बॉलीवुड हीरोइन से नाम जुड़ना भी रहा. लेकिन इस बार सबसे ज्यादा चर्चा में उनकी कपिलदेव से तुलना रही. इस साल के शुरू में जब दक्षिण अफ्रीका में पहले टेस्ट के पहली ही पारी में जब हार्दिक ने 93 रनों की शानदार पारी खेली उनकी तुलना कपिलदेव से की जाने लगी. लेकिन जल्द ही उन्होंने सबको निराश कर दिया. वे इस सीरीज में इसके बाद रन नहीं बना सके. यहां तक कि हाल ये हुआ कि एक पारी में वे गैरजिम्मेदाराना तरीके से क्या आउट हुए खुद कपिलदेव ने कह दिया कि हार्दिक की तुलना उनसे न की जाए. बाद में हार्दिक को खुद कहना पड़ा कि उन्हें हार्दिक ही रहने दिया जाए.

बेहतरीन वापसी भी की
इसके बाद इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज में हार्दिक ने फिर एक ही पारी में 5 विकेट लेकर सबको चौंका दिया. इस सीरीज के दूसरे टेस्ट में हार्दिक ने केवल 28 रन देकर 5 विकेट लिए. यह उपलब्धि हासिल करने वाले वे पहले ऑलराउंडर हैं. इसके अलावा वे टी20 सीरीज में छाए रहे. सीरीज के अंतिम टी20 मैच में चार विकेट लेने से पहले उन्होंने केवल 14 गेंद पर ही 33 रन बनाए. 

कई दिग्गजों की है मिली जुली राय
हार्दिक के बारे में कई बार दिग्गजों ने मिली जुली राय जाहिर की है. इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के शुरुआत में वेस्टइंडीज के माइकल होल्डिंग का मानना था कि हार्दिक पांड्या अभी टेस्ट मैचों के लिए तैयार नहीं हैं. पूर्व तेज गेंदबाज का कहना है कि पांड्या बल्ले से प्रभावी नहीं हैं. इसके अलावा उनकी गेंदबाजी में नियंत्रण और निरंतरता की कमी है. इसके बाद दक्षिण अफ्रीका के लांस क्लूजनर ने कहा कि  हार्दिक पंड्या भविष्य में बेन स्टोक्स के करीब पहुंच सकते हैं, लेकिन इसके लिए भारतीय टीम प्रबंधन को कम से कम दो साल के लिए उनके साथ 'संयम' बरतना होगा. लांस क्लूजनर ने एक इंटरव्यू में कहा, ''दुनिया के मौजूदा ऑलराउंडर में बेन स्टोक्स सबसे ऊपर हैं. कुछ ऐसे खिलाड़ी भी हुए हैं जो आए और चले गए, लेकिन निश्चित रूप से हार्दिक पांड्या जैसे खिलाड़ी को इस स्तर पर एक या दो साल दिए जाएं, तो वे दुनिया के सर्वश्रेष्ठ ऑल राउंडर में से एक बन सकते हैं.''

 कमर चोट से उबर रहे हैं पांड्या
फिलहाल हार्दिक पांड्या चोटिल हैं वे हाल ही में एशिया कप में कमर में चोट के कारण टूर्नामेंट से बाहर हो गए थे. पाकिस्तान के खिलाफ ग्रुप मैच में पांड्या को चोटिल होने के बाद स्ट्रैचर पर मैदान से बाहर ले जाया गया और तभी से आशंका थी कि वह टूर्नामेंट में नहीं खेल पाएंगे. फिलहाल हार्दिक आराम कर रहे हैं उनकी फिटनेस के बारे में कोई ताजा अपडेट नहीं आया है लेकिन उम्मीद की जा रही है कि वे वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे सीरीज में वापसी कर सकते हैं.