मध्य प्रदेश के बहुचर्चित व्यापम घोटाले का जिन्न एक बार फिर उठ खड़ा हुआ है. प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भोपाल की स्पेशल कोर्ट में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती सहित 18 अन्य लोगों के खिलाफ 27000 पन्नों की याचिका दाखिल की है.

इस दौरान दिग्विजय सिंह के साथ कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ, और सुप्रीम कोर्ट में वकील कपिल सिब्बल, राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा भी भोपाल जिला न्यायालय पहुंचे. दिग्विजय सिंह ने व्यापम घोटाले में शिवराज सिंह चौहान, उमा भारती और क्राइम ब्रांच के 18 लोगों के खिलाफ कोर्ट में याचिका लगाकर व्यापम मामले की एक्सेल शीट में फेरबदल करने का आरोप लगाया.

इस मामले की सुनवाई कोर्ट में चल रही है. कोर्ट में दिग्विजय के साथ कांग्रेस नेता कमलनाथ और कपिल सिब्बल भी मौजूद हैं. कमलनाथ ने कहा कि निश्चित तौर पर इस मामले में एक्सेल शीट से छेड़छाड़ हुई है. वहीं कपिल सिब्बल ने इसे बड़ा घोटाला करारदिया. बता दें कि इस मामले में कांग्रेस प्रेस कांफ्रेंस भी करेगी.

क्या था मामला

मध्य प्रदेश के बहुचर्चित व्यापम घोटाले में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और कमलनाथ ने काफी पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस करके शिवराज सिंह पर व्यापमं घोटाले में शामिल होने और इंदौर थाने में व्यापम से जुड़ी एक्सेल शीट में छेड़छाड़ करने के आरोप लगाए थे.
मामले में दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाए थे कि व्यापमं के सिस्टम एनालिस्ट नितिम महेंद्र के कंप्यूटर से जब्त की गई हार्ड डिस्क से तैयार की गई एक्सल सीट में छेड़छाड़ की गई है. हालांकि उस समय उन्होंने आरोप लगाए कि जहां जहां शिवराज से जुड़े नाम थे वहां वहां उमा भारती का नाम डाल दिया गया.