* बारिश के चलते नदी, नाले उफान पर, सड़क मार्ग भी हुआ बाधित

भोपाल। मध्यप्रदेश में मंगलवार को भी बारिश का दौर जारी है। राज्य के अधिकांश जिलों में सोमवार की रात से तेज बारिश हो रही है।  भारी बारिश के कारण नदियां-नाले उफान पर आ गए है। वेस नदी के उफान पर आने से विदिशा-अशोकनगर और गुना जिले का सड़क संपर्क टूट गया है। साथ ही रायसेन-भोपाल रोड बंद हो गया है। प्रदेश के सभी अंचलों में मूसलाधार बारिश का दौर जारी है। सोमवार से शुरु हुआ बारिश का सिलसिला आज मंगलवार को भी जारी रहा।  मौसम विभाग ने अगले चौबीस घंटों में 35 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इनमें ग्वालियर, दतिया, शिवपुरी, गुना, अशोकनगर, श्योपुरकलां, भिंड, मुरैना, रीवा, सतना, सीधी, सिंगरौली, उमरिया, शहडोल, अनूपपुर, डिंडौरी, कटनी, जबलपुर, नरसिंहपुर, मंडला, बालाघाट, सिवनी, छिंदवाड़ा, टीकमगढ़, छतरपुर, पन्ना, दमोह, सागर, विदिशा, रायसेन, भोपाल, नीमच, मंदसौर, रतलाम और झाबुआ में तेज बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। वहीं जबलपुर, सागर, रीवा, शहडोल, ग्वालियर और चंबल संभाग के कुछ जिलों में रिमझिम बारिश होने के साथ ही नीमच, मंदसौर, रतलाम, झाबुआ, बड़वानी, अलीराजपुर, उज्जैन एंव धार जिले में अनेक स्थान पर बारिश होने की संभावना जारी की गई है।

नदी, नाले उफान पर

प्रदेश के कई जिलों में बारिश से बुरा हाल है। सड़कों पर घुटनों तक पानी भरा होने की वजह से वाहनों का निकलना मुश्किल हो गया। प्रदेश की लगभग सभी नदियों के साथ नाले उफान पर हैं, जिससे रायसेन सहित अन्य तहसीलों का आपस में और जिले से बाहर संपर्क टूट गया है। रायसेन का संपर्क भोपाल, सांची, विदिशा और सागर से टूटा हुआ है। इन रास्तों पर नदियों के उफान पर होने से मार्ग बंद हैं। बड़ी संख्या में यात्री वाहन जगह-जगह फंसे रहे। सबसे अधिक खतरनाक स्थिति ग्राम सांचेत की हुई, जहां पूरी रात लोगों ने बाढ़ का सामना किया।  घरों में चार से पांच फीट तक पानी भरने से लोग जान बचाने के जतन करते रहे। 

सिर्फ दो जिलों में हुई सामान्य से अधिक बारिश

मध्यप्रदेश में  अब तक दो जिलों में सामान्य से अधिक बारिश हुई है। सामान्य से अधिक वर्षा वाले जिले भिण्ड और नीमच हैं।  सामान्य वर्षा वाले जिले भोपाल, दतिया, मुरैना, सीधी, सिंगरौली, उमरिया, टीकमगढ़, शिवपुरी, आगर-मालवा, सीहोर, दमोह, रतलाम, रायसेन, जबलपुर, उज्जैन, शाजापुर, होशंगाबाद, मण्डला, श्योपुरकलां, गुना, कटनी, मंदसौर, इंदौर, नरसिंहपुर, रीवा, ग्वालियर, विदिशा, बुरहानपुर, शहडोल, झाबुआ, पन्ना, खण्डवा, बड़वानी, खरगोन, सिवनी और छिन्दवाड़ा हैं। कम वर्षा वाले जिले सागर, देवास, अनूपपुर, बालाघाट, सतना, हरदा, धार, बैतूल, राजगढ़, अलीराजपुर, अशोकनगर, छतरपुर और डिण्डोरी हैं।