छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले में डेंगू को लेकर स्वास्थ्य अमला अलर्ट पर है. डेंगू से बचाव को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा लोगों को जागरूक करने का हर संभव प्रयास किया जा रहा है. सीएमएतओ डॉ. के. के. गजभिये ने कहा कि कलेक्टर के आदेशानुसार जिले के सभी शहरी क्षेत्रों में डेंगू को लेकर एक शिविर लगाया गया है. इसमें डॉक्टर के अलावा 5 स्वास्थ्य कार्यकर्ता रहेंगे. इसमें मरीजों को दवाइयों के साथ साथ उनका इलाज भी किया जाएगा. इसमें गंभीर मरीजों के पाए जाने पर उन्हें तत्काल अस्पताल रेफर किया जाएगा. हालांकि जिले में भले ही डेंगू के अभी तक कोई पॉजिटिव मरीज नहीं मिले हैं, लेकिन 15 से अधिक संभावित डेंगू के मरीज मिले चुके हैं. इन सभी का ब्लड सैंपल जांच के लिए लैब भेजा गया है.

गौरतलब है कि प्रदेश के कई हिस्सों में डेंगू का कहर देखने को मिल रहा है. बता दें कि भिलाई में डेंगू से 17 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है, जिसके बाद से पूरे प्रदेश में स्वास्थ्य और नगर निकाय अमला को अलर्ट पर रखा गया है. वहीं कवर्धा नगर पालिका क्षेत्र में भी गंदगी पसरी हुई है, जिसे लेकर पालिका लापरवाही बरत रहा है.

नालियों की सफाई न होने से यहां भी डेंगू का खतरा बना गया है, जिसे लेकर पालिका के प्रति लोगों में खासा आक्रोश है. मामले में स्थानीय निवासी नरेंद्र सिंह ठाकुर का कहना है कि नगर पालिका प्रशासन डेंगू को लेकर बिलकुल भी गंभीर नहीं है. शहर की सभी नालियां जाम हैं, जिसकी सफाई नहीं की जा रही है. इससे डेंगू का खतरा बढ़ गया है. पालिका द्वारा न तो शहर में मच्छरों को मारने के लिए कीटनाशक दवाई यानि डीडीटी का छिड़काव किया जा रहा है और ना ही शहरों में फैली गंदगी की साफ-सफाई कराई जा रही है.