पीएम मोदी ने मध्य प्रदेश के कटनी जिले में एक घटना का जिक्र किया, जिसमें पांच दिन के अंदर कोर्ट ने रेपिस्ट को फांसी की सजा सुनाई.

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से रेप की घटनाओं पर चिंता व्यक्त करते हुए मध्य प्रदेश के कटनी जिले की एक घटना का जिक्र किया, जिसमें पांच दिन के अंदर कोर्ट ने रेपिस्ट को फांसी की सजा सुनाई. मामला मध्य प्रदेश के कटनी जिले का है, जहां अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश माधुरी राज लाल ने ऑटो चालक और रेप के आरोपी राज कुमार को सिर्फ पांच दिन की सुनवाई में ऐतिहासिक फैसला देते हुए फांसी की सजा सुनाई थी. कोर्ट ने ऑटो चालक राजकुमार को बच्ची के साथ रेप का दोषी पाया. आरोपी स्कूल ऑटो ड्राइवर था और बच्ची को स्कूल छोड़ने के दौरान उसने रेप को अंजाम दिया था.

 

पांच जुलाई को स्कूल से लौटते वक्त एक शख्स ने पांच वर्षीय मासूम बच्ची के साथ इस वारदात को अंजाम दिया था. इसके बाद मासूम ने पूरी घटना अपने पिता को बताई थी. मासूम के पिता ने कोतवाली थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी. पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था. 23 जुलाई को चालान पेश करने के पांच दिन के अंदर शुक्रवार को अदालत ने फांसी की सजा सुना दी.

 

मध्यप्रदेश में रेप का यह पहला मामला है, जब कोर्ट ने इतनी जल्दी फैसला दिया गया. इसी प्रकार बीते दिनों कई अन्य मामलों में भी कोर्ट ने रेप के केस पर त्वरित सुनवाई की है. इनमें इंदौर रेप केस भी शामिल है, जब चार माह की बच्ची के साथ रेप और उसकी हत्या के आरोप में दोषी को मात्र 22 दिन में ही सजा सुना दी थी.