केरल में बाढ़ की वजह से हालात अभी भी खराब हैं. बाढ़ की वजह से कोच्च‍ि में स्थ‍ित कोचीन इंटरनेशनल एयरपोर्ट को शनिवार तक के लिए बंद कर दिया गया है. बाढ़ की वजह से एक हफ्ते में 41 लोगों की जान जा चुकी है.

केरल में बाढ़ से बिगड़े हालात के बीच कोचीन इंटरनेशनल एयरपोर्ट को शनिवार, 18 अगस्त, दोपहर 2 बजे तक बंद कर दिया गया है. पेरियार नदी की बाढ़ का पानी एयरपोर्ट के भीतर तक पहुंच जाने की वजह से यह कदम उठाना पड़ा.

 

राज्य में बाढ़ के भीषण कहर से जान-माल का काफी नुकसान हुआ है. बुधवार को पांच और लोगों की मौत हो गई जिससे 8 अगस्त के बाद अब तक बाढ़ की वजह से मरने वालों की संख्या 41 तक पहुंच गई है. बुधवार को मलप्पुरम एक मकान ढह जाने से एक दंपति की मौत हो गई. दंपति का छह साल का बच्चा गायब है.

 

गौरतलब है कि नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ने की वजह से पूरे राज्य की सभी 33 बांधों के गेट खोल दिए गए थे. राज्य के इडुक्की में पांच अलग-अलग स्थानों पर भूस्खलन होने की खबर है.

 

बारिश लगातार होने की वजह से बाढ़ की स्थ‍िति में सुधार नहीं हो पा रहा. मंगलवार शाम से राज्य के कई इलाकों में भारी बारिश हो रही है. कई सड़कें और इमारतें पानी में डूब गई हैं. पर्यटकों को मुन्नार की तरफ न जाने की चेतावनी दी गई है.

 

केरल में बारिश और बाढ़ ने भयंकर तबाही मचा रखी है. अगर मई महीने से जोड़ें तो बारिश के कहर से अब तक 180 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

 

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने हाल में पर्यटन मंत्री के.जी. अल्फोंस के साथ बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया किया था. उनके साथ केरल के सीएम पिनरई विजयन भी थे.

 

केंद्र ने बाढ़ की स्थिति को देखते हुए त्रिशूर, एर्नाकुलम, अलप्पुझा, वायनाड, कोझिकोड और इडुक्की जिलों में एनडीआरएफ की 14 टीमें तैनात की है. ये टीमें चिकित्सा सहायता के साथ राहत सामग्रियों के वितरण का भी काम कर रही हैं. इसके साथ ही एनडीआरएफ की अन्य टीमें भी तैनात रखी गई हैं.