मौसम विभाग ने उत्तर पश्चिम मानसून की उत्तरी क्षेत्र में सक्रियता को देखते हुए बुधवार को दिल्ली सहित 16 राज्यों में भारी बारिश और केरल सहित पांच राज्यों में मूसलाधार बारिश की चेतावनी जारी की है। विभाग ने मानसून की मौजूदा गतिविधि को देखते हुये जारी पूर्वानुमान में ओडिशा, तटीय कर्नाटक, केरल, छत्तीसगढ़, और तमिलनाडु में कुछ स्थानों पर बुधवार को मूसलाधार बारिश का अनुमान व्यक्त किया है।


इसके अलावा असम, मेघालय, पश्चिम बंगाल, झारखंड, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, चंडीगढ़ और दिल्ली, पूर्वी मध्य प्रदेश, कोंकण एवं गोवा, मध्य महाराष्ट्र एवं विदर्भ, तटीय आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में अगले 24 घंटों के दौरान भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। 


विभाग ने मानसून संबंधी गतिविधियों को देखते हुये मध्य अरब सागर, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, केरल, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और अंडमान निकोबार द्वीप समूह के तटीय इलाकों में मौसम बेहद खराब रहने की आशंका जतायी है। इसके मद्देनजर मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गयी है। 


यूपी में बारिश होने के आसार 

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ और आसपास के जिलों में रविवार देर रात से रुक-रुककर बारिश हो रही है, जिससे तापमान में गिरावट आई है। मौसम विभाग के अनुसार, इस हफ्ते के अंत तक मौसम का यही रुख बरकरार रहने की उम्मीद है। मौसम विभाग के निदेशक जे.पी गुप्ता के अनुसार, दिन में बदली छाई रहेगी और तापमान में गिरावट दर्ज की जाएगी। अधिकतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है। पूर्वांचल सहित कई जिलों में तेज बारिश होने की चेतावनी जारी की गई है। 


मौसम विभाग के अनुसार, मंगलवार को राजधानी लखनऊ का न्यूनतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि अधिकतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है। लखनऊ  के अतिरिक्त गोरखपुर का न्यूनतम तापमान 21 डिग्री, कानपुर का 22 डिग्री, बनारस का 19 डिग्री, इलाहाबाद का 21 डिग्री और झांसी का 24 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 


यूपी बारिश से 9 लोगों की मौत, भारी बारिश की चेतावनी 

उत्तर प्रदेश में रुक-रुककर हो रही बारिश की वजह से बीते 24 घंटों के दौरान नौ लोगों की मौत हो गई, जबकि 184 मकानों को नुकसान पहुंचा है। राहत आयुक्त संजय कुमार के मुताबिक, बीते 24 घंटों के दौरान बस्ती में तीन, कन्नौज और सीतापुर में दो-दो और सोनभद्र व बिजनौर में एक-एक मौतें हुई हैं। प्रदेश में 184 मकानों व झोपड़ियों को नुकसान पहुंचा है। कानपुर देहात में अकेले 106 मकानों और झोपड़ियों को नुकसान पहुंचा है।


संजय कुमार के मुताबिक, आपदा प्रभावित परिवारों को सहायता पहुंचाने की कार्यवाही प्राथमिकता के आधार पर की जा रही है। उन्होंने बताया कि लखीमपुर खीरी, बाराबंकी और अयोध्या सहित प्रमुख स्थानों पर नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं, लेकिन किसी भी जिले से बंधों व तटबंधों से रिसाव की सूचना नहीं है। इस बीच मौसम विभाग ने प्रदेश के कई इलाकों में गरज-चमक के साथ भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। सोमवार को लखनऊ  में सर्वाधिक 66.8 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई। सुबह बूंदाबांदी और दोपहर बाद तेज हवाओं के साथ सिस व ट्रांस गोमती इलाके में मूसलाधार बारिश हुई।


सुल्तानपुर में 37.3 मिलीमीटर, कानपुर में 38 मिलीमीटर, बलिया में 25.2 मिलीमीटर, बस्ती में 19.3 मिमीटर बारिश दर्ज की गई, जबकि बहराइच, फुरसतगंज, इटावा, खीरी, शाहजहांपुर, नजीबाबाद व हमीरपुर में 1० मिलीमीटर से कम बारिश दर्ज की गई। बादल छाए रहने और बारिश की वजह से प्रदेश में कई स्थानों पर अधिकतम तापमान सामान्य से काफी कम रिकॉर्ड किया गया।


मध्य प्रदेश में 24 घंटे में हो सकती है बारिश

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल सहित अन्य हिस्सों में मंगलवार सुबह से बादल छाए हुए हैं बूंदाबांदी के आसार जताए हैं। मौसम विभाग के अनुसार, बंगाल की खाड़ी में बना सिस्टम आगामी 24 घंटों में आगे बढ़ेगा और ओडिशा होता हुआ मध्य प्रदेश तक पहुंच सकता है, जिससे बारिश के आसार बन सकते है।  राज्य के मौसम में बदलाव का दौर जारी है। मंगलवार को भोपाल का न्यूनतम तापमान 24 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 22.6 डिग्री, ग्वालियर का 24.4 डिग्री और जबलपुर का न्यूनतम तापमान 24.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं सोमवार को भोपाल का अधिकतम तापमान 3० डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 28.9 डिग्री, ग्वालियर का 33.5 डिग्री सेल्सियस और जबलपुर का अधिकतम तापमान 31.6 डिग्री सेल्सियस रहा। 


ओडिशा के मुख्यमंत्री ने राज्य में बाढ़ की चेतावनी जारी की

 ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मंगलवार को सभी जिला कलेक्टरों को संभावित बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने के निदेर्श दिए हैं। मौसम विभाग ने यहां अगले दो दिनों में भारी बारिश की आशंका जताई है। पटनायक ने समीक्षा बैठक के बाद, मूसलाधार बारिश होने की आशंका को देखते हुए सभी जिला कलेक्टरों को किसी भी स्थिति के लिए तैयार रहने के निर्देश दिए हैं।


विशेष राहत आयुक्त बिष्णुपद सेठी ने कहा कि ओडिशा आपदा त्वरित कार्रवाई बल(ओडिआरएएफ), दमकल सेवा और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल(एनडीआरएफ) को संभावित तैनाती के लिए तैयार रखा गया है। सेठी ने कहा कि राज्य में सभी नदियां खतरे के निशान से नीचे बह रही हैं। मौसम विभाग ने हालांकि अपने अनुमान में कहा है कि बंगाल की खाड़ी में निम्न दबाव का क्षेत्र बनने से अगले दो दिनों में कुछ जगहों पर अत्यधिक बारिश हो सकती है।