श्रीनगर । सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद पहली बार मंगलवार की रात को भारतीय सेना ने एलओसी पर बड़ी कार्रवाई करते हुये  जम्‍मू-कश्‍मीर के तंगधार इलाके में दो पाकिस्‍तानी सैनिकों को मार गिराया। माना जा रहा है कि सेना ने यह कदम लगातार हो रहे सीजफायर उल्‍लंघन और आतंकवादियों की घुसपैठ का बदला लेने के लिए किया है। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने एक बयान जारी कर कहा, भारतीय सेना ने बीती रात दो पाकिस्‍तानी सैनिकों को मार गिराया है। भारतीय सेना ने यह कदम लगातार बिना उकसावे के सीजफायर उल्‍लंघन और आतंकवादियों के बार-बार हो रही घुसपैठ की कोशिशों का बदला लेने के लिए उठाया है।

बता दें कि पाकिस्‍तान की ओर से सीजफायर उल्‍लंघन और आतंकवादियों को भारतीय सीमा में घुसपैठ कराने की नापाक कोशिश जारी है। इससे पहले सोमवार को जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के नजदीक अलग-अलग विस्फोटों में सेना के दो जवानों की मौत हो गई थी। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि कुपवाड़ा जिले में नियंत्रण रेखा के नजदीक एक विस्फोट में सिपाही पुष्पेंद्र कुमार गंभीर रूप से जख्मी हो गए। अधिकारी ने बताया कि 20 जाट रेजिमेंट से जुड़े पुष्पेंद्र कुमार ने बाद में दम तोड़ दिया।  अधिकारी ने बताया कि उरी सेक्टर में हुए एक अन्य विस्फोट में 4 गढ़वाल राइफल्स के कुलदीप सिंह रावत की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि अभी यह पता नहीं चल सका कि ये विस्फोट कैसे हुए। बताया कि पुष्पेंद्र सिंह की मौत कुपवाड़ा के तंगधार में आतंकियों की एक घुसपैठ के दौरान हुई। हालांकि, घुसपैठ को नाकाम कर दिया।