छतरपुर, / कमिश्नर श्री मनोहर दुबे ने कहा है कि सीएम हेल्पलाइन के लंबित

प्रकरणों के निराकरण में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों को दण्डित किया जाएगा। गोपनीय चरित्रावली में इसका उल्लेख करने के साथ ही कारण बताओ नोटिस एवं वेतनवृद्धि रोकने की कार्यवाही भी की जाएगी। कमिश्नर श्री दुबे ने कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में जिले के राजस्व अधिकारियों की बैठक के दौरान उक्त निर्देश देते हुए कहा कि शिकायतकर्ता से बात करने के बाद ही प्रकरण को बंद करने की कार्यवाही करें। उन्होंने राजस्व न्यायालयों में लंबित प्रकरणों के निराकरण के लिए भी निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि आगामी 30 सितम्बर तक हर हाल में राजस्व

न्यायालयों में लंबित डायवर्सन के प्रकरण निपटाएं। इसके अतिरिक्त

नामांतरण एवं बंटवारा के प्रकरणों का निपटारा भी समय-सीमा में करें।

उन्होंने बम्हौरी के नायब तहसीलदार न्यायालय में अब तक नामांतरण के मात्र 4 प्रकरण निराकृत होने पर नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने एसडीएम को समाधान एक दिन योजना के तहत फॉलोअप एवं निराकरण सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिए। कमिश्नर श्री दुबे ने संबल योजना की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए कि आबादी के अनुपात में स्थानीय निकाय पंजीयन बढ़ाना सुनिश्चित करें।उन्होंने स्मार्ट कार्ड का वितरण शीघ्र करने के निर्देश दिए। स्वच्छ भारत मिशन की समीक्षा के दौरान उन्होंने कहा कि 30 अगस्त तक शौचालय निर्माण पूर्ण कराया जाए, जिससे आगामी 2 अक्टूबर को जिले को ओडीएफ घोषित किया जा सके। उन्होंने जानकारी दी कि सितम्बर माह के प्रथम सप्ताह में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह की संभागीय समीक्षा बैठक प्रस्तावित है। अतः समय-सीमा में राजस्व विभाग के लंबित मामलोें का निराकरण अनिवार्य रूप से कर लें। बैठक में कलेक्टर श्री रमेश भण्डारी, अपर कलेक्टर श्री डी.के.मौर्य, समस्त एसडीएम और तहसीलदार उपस्थित थे।