छतरपुर, / आगामी विधानसभा चुनाव के दृष्टिगत निर्वाचक एवं सहायक निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी सभी मतदान केन्द्रों पर आधारभूत सुविधाओं कीउपलब्धता सुनिश्चित कर लें। आदर्श मतदान केन्द्रों का चयन कर निर्वाचन कार्यालय को तत्काल जानकारी उपलब्ध कराएं, साथ ही दुर्गम एवं पहुंच विहीन मतदान केन्द्रों की जानकारी भी दें। उक्ताशय के निर्देश सागर संभागायुक्त श्री मनोहर दुबे ने आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित व्यवस्थित मतदाता

शिक्षा और चुनाव में भागीदारी के संबंध में आयोजित कार्यशाला के दौरान दिए। उन्होंने कहा कि निर्वाचन आयोग की पारदर्शी और निष्पक्ष तरीके से आगामी विधानसभा चुनाव कराने की पूरी तैयारी है। आयोग के निर्देशानुसार संबंधित अधिकारी मतदान केन्द्रों के भवनों का भौतिक सत्यापन, मतदान केन्द्र का नाम एवं बीएलओ की पदस्थापना के संबंध में भी कार्यवाही करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि शैडो एरिया वाले मतदान केन्द्रों में संचार की उचित व्यवस्था करें। इसके अतिरिक्त सभी ईआरओ इस आशय का प्रमाण पत्र उपलब्ध कराएं कि उनके विधानसभा क्षेत्र के सभी मतदान केन्द्रों में ऐसा कोई मतदान केन्द्र नहीं है, जहां मतदाताओं को 2 किलोमीटर से अधिक चलना पड़ता है। ऐसा होने पर आवश्यक प्रस्ताव भिजवाएं। उन्होंने एसडीएम को बीएलओ के कार्य की मॉनिटरिंग के निर्देश भी दिए।

कमिश्नर श्री दुबे ने मतदाता जागरूकता रथ एवं स्वीप गतिविधियों

पर भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि इस संबंध में पार्टनर विभागों से समन्वय

स्थापित कर स्वीप कार्यक्रम के तहत मतदाताओं को जागरूक करने का अभियान चलाएं। उन्होंने निर्वाचन आयोग द्वारा मतदान केन्द्रों के संबंध में जानकारी के लिए शुरू किए गए टोल-फ्री नम्बर 1950 के बारे में बताया।

कलेक्टर श्री रमेश भण्डारी ने बैठक में जानकारी देते हुए बताया

कि जिले की 6 विधानसभाओं में 5 नवीन केन्द्र बनाए गए हैं। अब प्रस्तावित मतदान केन्द्रों की संख्या 1 हजार 565 है। बैठक के दौरान चुनाव में पहली बार उपयोग होने वाली व्हीव्हीपैट मशीन का प्रदर्शन भी कराया गया।

उपस्थितजनों ने बारी-बारी से मशीन का ट्रायल किया। बैठक में राजनगर

विधायक श्री कुंवर विक्रम सिंह, अपर कलेक्टर श्री डी.के. मौर्य, समस्त

एसडीएम, तहसीलदार और राजनैतिक दलों के अध्यक्ष व पदाधिकारी उपस्थित थे।