कांगड़ा, हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में पास एयरफोर्स का विमान मिग-21 क्रैश हो गया. हादसे में पायलट की मौत हो गई है.


आशंका जताई जा रही थी कि पायलट को विमान की खराबी का पता लग गया हो और वो क्रैश होने के पहले ही विमान से बाहर निकल गया हो. लेकिन बाद में पायलट की मौत की पुष्टी की गई.

बता दें कि एयरफोर्स का यह विमान पंजाब के पठानकोट से आ रहा था, जो हिमाचल में कांगड़ा के जवाली में क्रैश हो गया.

बता दें कि सितंबर 2016 में भी मिग-21 हादसे का शिकार हो गया था. राजस्थान के बाड़मेर में हुए इस हादसे में विमान में सवार दोनों पायलटो ने पैराशूट से कूदकर अपनी जान बचाई थी.


मिग-21 सुपरसोनिक लड़ाकू जेट विमान है, जिसका निर्माण सोवियत संघ के मिकोयान-गुरेविच डिज़ाइन ब्यूरो ने किया है. पहले इसे 'बलालैका' के नाम से बुलाया जाता था, क्योंकि यह रूसी संगीत वाद्य ऑलोवेक की तरह दिखता था.


वायुसेना से विदा हो चुका है मिग-21


बता दें कि पिछले साल दिसंबर में ही मिग-21 एयरक्राफ्ट की भारतीय वायुसेना से विदाई हो चुकी है. 29 दिसंबर को राजस्थान के नाल स्थित वायुसेना स्टेशन से मिग-21 एयरक्राफ्ट ने अपनी आखिरी उड़ान भरी थी. इसके साथ ही वायुसेना ने मिग-21 एयरक्राफ्ट को अलविदा कह दिया था.


इस दौरान वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने खुद अंतिम बार मिग-21 एयरक्राफ्ट को उड़ाया था और इसको अंतिम बार उड़ाने का गौरव भी उन्हीं के खाते में दर्ज हुआ था.