बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर में से एक राजेश खन्ना ने 1966 में अपनी पहली फिल्म 'आखिरी खत' से फिल्मों में एंट्री की थी। उनके बॉलीवुड में एंट्री की शुरुआत साल 1965 में हुई, जब प्रोड्यूसर और फिल्ममेकर एक नए हीरो की तलाश कर रहे थे। राजेश खन्ना ने 10 हजार लड़कों में से 8 में जगह बनाई थी और यही से शुरू हुआ उनका फिल्मी सफर। 18 जुलाई साल 2012 को राजेश खन्ना ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया था। मरने से पहले उन्होंने एक ऑडियो मेसेज रिकॉर्ड किया था। इनमें कुछ अनकही बातें थीं, जो वो लोगों तक पहुंचाना चाहते थे। 

राजेश खन्ना ने मरने से पहले मेसेज दिया कि, 'मेरे प्यारे दोस्तों, भाइयों और बहनों, मुझे उदास और पुरानी यादों में रहने की आदत नहीं है। भविष्य में कुछ भी सुरक्षित नहीं है। जो दिन बीत गए हैं उनके बारे में सोचने से कोई फायदा नहीं। लेकिन महफिल में जब जाने- पहचाने से लोग मिलते हैं तो यादें ताजा हो ही जाती हैं।' मैंने आज जो कुछ भी कमाया है या जो कुछ भी बन पाया हूं, थिएटर की बदौलत ही हूं। लेकिन वो भी टाइम था जब मुझे एक डॉयलॉग सही से न बोल पाने के कारण बहुत डांट पड़ती थी। उस डांट के बाद मैं रोया भी था। मुझसे कहा गया था, तुम एक्टर बनना चाहते हो, एक लाइन तो तुमसे ढंग से बोली नहीं जाती। लानत है तुम पर। क्या खाक एक्टर बनोगे। उस बात से मेरा दिल रो रहा था। लेकिन मैंने वो गुस्सा संभाल कर रखा। मन ही मन सोचा कि एक दिन एक्टर बनकर दिखाऊंगा। फिर इन लोगों से बात करूंगा। 


जब मैंने फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखा तो न कोई गॉडफादर था और न कोई रिश्तेदार जो काम दिलाने में मदद कर सके। एक दिन मैंने अखबार में एक कॉन्टेस्ट देखा, उसमें लिखा था प्लीज सेंड 3 फोटोग्राफ्स। मैंने फॉर्म भरकर अपनी तीन फोटोज के साथ भेज दिया। मुझे बुलाया गया। उस कॉन्टेस्ट में बड़े-बड़े प्रोड्यूसर्स थे। चोपड़ा साहब, बिमल रॉय, एसएस द्रविड़। इन सबको वहां देखकर मुझे ऐसा लगा जैसे किसी कटघरे में शामिल कर दिया हो। उन्होंने कहा, अपना खुद का एक डायलॉग बोलकर दिखाओ। डर लग रहा था। उस वक्त तो किसी भी फिल्म का कोई भी डायलॉग याद नहीं आ रहा था। तभी भगवान की दया से एक नाटक का डायलॉग याद आ गया।


बस ये वही एक डायलॉग था जिसकी बदौलत मुझे काम मिला। मैं फिल्मों में तो आ गया लेकिन सफलता का श्रेय तो आपको ही जाता है। जिन्होंने मुझे स्टार से सुपरस्टार बनाया। मैं किस तरह आपका शुक्रिया अदा करूं, समझ नहीं आता। आप मुझे प्यार भेजते रहें लेकिन मैं उस प्यार को वापस नहीं कर पाया। इस बात का अफसोस है। लेकिन आज सब से ये सब शेयर करके मेरा दिल हल्का हो गया। जो भी मन में था कह दिया। 


इस मेसेज के बाद 18 जुलाई 2012 को ‘काका’ कहकर पुकारे जाने वाले सुपरस्टार राजेश खन्ना ने 69 साल की उम्र में दुनिया और इंडस्ट्री दोनों को अलविदा कह दिया। उनकी कमी इंडस्ट्री और फैन्स को हमेशा खलती रहेगी।