यूनिफॉर्म सुधार को लेकर हुए बदलावों के बाद अब अगले साल से क्वींसलैंड की छात्राएं शॉर्ट्स और पैंट्स पहनकर स्कूल जा सकेंगी। एक रिपोर्ट के अनुसार, क्वींसलैंड राज्य शिक्षा मंत्री ग्रेस ग्रेस ने रविवार को कहा, 'हम जानते हैं कि लगभग 60 प्रतिशत स्टेट स्कूल पहले से ही लड़कियों को इन यूनिफार्म के विकल्पों का प्रस्ताव दे रहे हैं, लेकिन हमने पाया कि कुछ स्कूलों ने कई वर्षों में अपने ड्रेस कोड को अपडेट नहीं किया है।'


उन्होंने कहा, 'क्वींसलैंड की सभी लड़कियों को खेल व कक्षा की सक्रिय गतिविधियों में शामिल होने में सक्षम होना चाहिए और उन्हें इस बात की चिंता किए बिना कि उन्होंने क्या पहना है, स्कूल तक बाइक चलाकर आने और जाने के लिए सक्षम होना चाहिए।' ग्रेस ने कहा कि नवीनतम ड्रेस कोड पर हितधारकों के साथ परामर्श व व्यापक समीक्षा के बाद सहमति बनी है।

राज्य के स्ट्रेटन स्टेट कॉलेज के कार्यकारी प्राचार्य जान मारेस्का ने कहा, 'हमने पूरे स्कूल समुदाय के साथ परामर्श के बाद पाया कि हमारी प्राथमिक स्कूल की आधी बच्चियां स्कर्ट पहनकर स्कूल नहीं आना चाहती हैं।'


जान मारेस्का ने अपने स्कूल के यूनिफार्म में बदलाव किया है। उन्होंने कहा कि कोई भी हमारे स्कूल आकर अब देख सकता है कि लड़कियां तनावमुक्त होकर फुटबाल को किक मार रही हैं, हैंडबाल खेल रही हैं, पेड़ के नीचे लेटकर बेफिक्र किताबें पढ़ रही हैं।